छत्तीसगढ़: गंदे पानी को देख भड़के विधायक, खुद पिया पानी और लगा दी अधिकारी की क्लास

बस्तर जिले के दरभा ब्लॉक के चितापुर गांव में लगे जनसमस्या निवारण शिविर में एक अजीब नजारा देखने को मिला. 

छत्तीसगढ़: गंदे पानी को देख भड़के विधायक, खुद पिया पानी और लगा दी अधिकारी की क्लास
(फोटो साभार- ANI)

बस्तर: बस्तर जिले के दरभा ब्लॉक के चितापुर गांव में लगे जनसमस्या निवारण शिविर में एक अजीब नजारा देखने को मिला. बोरिंग से निकल रहे गंदे पानी को देख विधायक जी कुछ ऐसे नाराज हुए कि उन्होंने वो गंदा पानी पहले तो खुद पिया और फिर अधिकारी को भी पिला दिया. 

दरअसल बस्तर जिले में आने वाले चित्रकोट विधानसभा क्षेत्र के विधायक दीपक बैज को यह जानकारी मिली थी कि छिंदावाड़ा गांव के ग्रामीण सालों से बोरिंग से निकलने वाला लाल पानी पीने को मजबूर हैं. इसके बाद विधायक ने गांव पंहुच बोरिंग से निकलने वाला गंदा पानी एक बोटल में भर लिया और पंहुच गए सीधे जनसमस्या निवारण शिविर में, जहां अधिकारी से लेकर जन प्रतिनिधि तक सभी मौजूद थे. 

बस्तरः खराब सड़क भी नहीं रोक पाई रास्ता, कड़ी मुश्किलों के बाद भी काम में जुटे जवान

गंदे पानी की समस्या देख विधायक जी इस कदर भड़के हुए थे कि उन्होंने पीएचई के एसडीओ की क्लास ले ली. पहले तो विधायक जी अधिकारी पर जमकर बरसे और फिर गंदे पानी की बोतल अधिकारी के सामने रख दी. विधायक जी ने पहले तो बोतल का गंदा पानी खुद पिया और फिर अधिकारी को भी बोतल में रखा वो पानी पिलाया. पानी पीने के बाद अधिकारी ने भी माना कि पानी वाकई पीने लायक नहीं है. 

नक्सल प्रभावित इलाके का आदिवासी बेटा बनेगा डॉक्टर

दीपक बैज ने अधिकारी को पानी पिलाने के बाद कहा कि जब तक ग्रामीणों को साफ पानी उपलब्ध नहीं कराया जाएगा तब तक अधिकारी को भी ऐसा गंदा पानी पीना पड़ेगा. दरअसल बोरिंग से निकलने वाले पानी में आयरन की मात्रा बहुत ज्यादा है जिसके चलते पानी पीने लायक नहीं है और उसका रंग लाल हो चुका है. पानी पीने के बाद जब अधिकारी ने यह स्वीकार किया की पानी में आइरन की मात्रा अधिक है तो विधायक ने ग्रामीणों से ताली बजाने को कहा.