close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

नाश्ता देखते ही भड़के कांग्रेस विधायक, बोले- 'यहां काजू-बादाम खाने नहीं आया हूं'

बैतूल के कांग्रेस विधायक निलय डागा को बैतूल कृषि उपज मंडी में. लंबे समय से कई अनियमितताओं की शिकायत मिल रही थी.आज जब वे अचानक मंडी पहुचे तो वहां फैली अव्यवस्थाओं पर अधिकारियों पर जमकर बरस पड़े.

नाश्ता देखते ही भड़के कांग्रेस विधायक, बोले- 'यहां काजू-बादाम खाने नहीं आया हूं'

इरशाद हिंदुस्तानी, बैतूलः नेताओं अफसरों के दफ्तरों और फील्ड में  इंस्पेक्शन के समय आपने अक्सर काजू बादाम प्लेट में सजते, खाते खिलाते देखा होगा, लेकिन मध्यप्रदेश के बैतूल में आज एक ऐसी तस्वीर सामने आई जब कांग्रेस के विधायक निलय डागा मंडी के निरीक्षण के दौरान काजू बादाम का नाश्ता पेश करने पर इतने नाराज हुए की उन्होंने मंडी प्रबंधन की बखिया उधेड़ कर रख दी. विधायक ने मंडी में चल रही भोजन केंटीन का रजिस्टर जप्त कर लिया और वहां तैनात सुरक्षा गार्डों को दो दिन बाद उनके सामने परेड करने की हिदायत दे डाली. विधायक ने इस दौरान सख्त तेवर दिखाते हुए चेतावनी दे डाली की उनकी पार्टी की  सरकार में फर्जीवाड़ा करने वालो की कोई जरूरत नही है. 

दरअसल, बैतूल के कांग्रेस विधायक निलय डागा को बैतूल कृषि उपज मंडी में. लंबे समय से कई अनियमितताओं की शिकायत मिल रही थी.आज जब वे अचानक मंडी पहुचे तो वहां फैली अव्यवस्थाओं पर अधिकारियों पर जमकर बरस पड़े. विधायक ने जहां मंडी में तैनात किए गए सुरक्षा गार्डों के. मौजूद न रहने पर नाराजगी जताई वहीं सफाई ठेके को लेकर उन्हें दी गयी जानकारी पर कड़े तेवर दिखाए. विधायक उस समय बेहद नाराज हुए जब वे मंडी की केंटीन में  पहुंचे जहां खाना तो 15 से 15 लोगों का बना था, लेकिन पर्चियां 148 किसानों की कटी थी. इससे नाराज विधायक रजिस्टर ही जप्त कर ले आए. उन्होंने इस दौरान साफ कहा कि इसके लिए पैसा हराम में नहीं आता. 

देखें LIVE TV

इस निरीक्षण के बाद विधायक तब उबल पड़े जब उनके सामने मंडी प्रबंधन ने काजू से भरी प्लेट रख दी. उन्होंने सवाल किया कि काजू बादाम लाने का किसने कहा था. अब यह किसी को नही दिए जाएंगे. विधायक बोले की वे यहां काजू बादाम खाने नही आये है.

CM कमलनाथ ने 'मैग्नीफिसेंट MP' का किया उद्घाटन, कार्यक्रम में शामिल होंगे 900 से अधिक उद्योगपति

गौरतलब है कि मंडी में 39 गार्डों के सुरक्षा का ठेका है जबकि मौके पर दो चार ही तैनात रहते है. यही नही यहां दिए गए सफाई ठेके के बावजूद सफाई नही होती.टॉयलेट और मंडी परिसर गंदगी से अटा पड़ा है. यहां आने वाले किसानों को 5 रुपये में भोजन देने के लिए खोली गई कैंटीन में भी बड़ा फर्जीवाड़ा सामने आ रहा है. जितने किसानों को यहां रोज खाना दिए जाने के लिए पर्ची कटती है. उतने किसान खाना खाते ही नही है. विधायक ने यहां किसानों से उनकी उपज सही नापे जाने और कमीशन मांगने को लेकर भी पूछताछ की है. इस मामले में मंडी के.प्रशासक और एसडीएम बैतूल आरआर पांडे ने जांच करवाने का भरोसा दिया है.