close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

अपने ही पार्षद से भिड़ गए, कांग्रेस के नगर पालिका अध्यक्ष, BJP पार्षद ने किया बीच-बचाव

परिषद की बैठक में हंगामे का वीडियो सोशल मीडिया में खूब वायरल हो रहा है.

अपने ही पार्षद से भिड़ गए, कांग्रेस के नगर पालिका अध्यक्ष, BJP पार्षद ने किया बीच-बचाव

बिलासपुर: छत्तीसगढ़ के कोरिया जिले में नगर पालिका मनेन्द्रगढ़ की सामान्य सभा की बैठक में जमकर हंगामा हुआ. इस दौरान कांग्रेस पार्षद गोपाल गुप्ता और पार्षदों ने अपने ही पार्टी के नगर पालिका अध्यक्ष राजकुमार केसरवानी के खिलाफ शहर में महिला शौचालय शुरू करने की मांग को लेकर जमकर हंगामा मचाया. हंगामे के दौरान हाथपाई तक की नौबत आ गई. वहीं, भाजपा पार्षद दयाशंकर यादव के बीचबचाव के बाद मामला शांत हुआ. कांग्रेस पार्षद गोपाल गुप्ता के महिला शौचालय शुरू करने की मांग को लेकर नगर पालिका अध्यक्ष राजकुमार केसरवानी अपनी ही पार्टी पर बिफर पड़े और तू तड़ाक पर उतर आए.

ऐसा माहौल परिषद की बैठक में बनते देख जब अन्य कांग्रेस पार्षद गोपाल गुप्ता की मांग का समर्थन करने लगे, तो नगर पालिका अध्यक्ष अपनी कुर्सी से उठकर पार्षद के पास तक जाने लगे और उंगली दिखाकर तू तड़ाक पर उतर आए. वहीं, भाजपा पार्षद दयाशंकर यादव के बीचबचाव के बाद मामला शांत हुआ. परिषद की बैठक में हंगामे का वीडियो सोशल मीडिया में खूब वायरल हो रहा है. वायरल वीडियो में परिषद के बैठक की गरिमा को तार-तार होते साफ तौर पर देखा जा सकता है.

 

इस मामले पर कांग्रेस पार्षद गोपाल गुप्ता का कहना है कि 3 साल पहले से शहर में महिला शौचालय बनाने मांग कर रहा था. मेरी निधि से शहर में महिला शौचालय बनाया गया. जिसको प्रारंभ करने की लगातार मांग कर रहा था. इसको लेकर आज बैठक में हंगामा हुआ. अगर 1 हफ्ते के बाद शौचालय की ओपनिंग नहीं हुई तो हम सभी वार्ड पार्षद धरने पर बैठेंगे.

वहीं, नगर पालिका अध्यक्ष राजकुमार केसरवानी ने सफाई देते हुए कहा कि कांग्रेस पार्षदों को कई घंटों से समझा रहा था, नहीं मानें तो मैं उठकर जा रहा था. हर बैठक में पार्षद अपनी बात रखते हैं. लड़ाई झगड़ा की कोई बात नही थी. परिसर में थोड़ा बहुत आवाज तेज होना संसदीय परम्परा है.

मामले पर भाजपा के पूर्व नगर पालिका अध्यक्ष धर्मेंद्र का कहना है कि शहरवासियों के लिए बहुत ही शर्म की बात है. सामान्य सभा की बैठक में एक छोटे से काम को लेकर कांग्रेस अध्यक्ष अपनी कुर्सी से उठकर पार्षद को मारने जा रहे थे. उसी दौरान हमारे भाजपा पार्षद ने बीच-बचाव किया नहीं तो न जाने क्या हो जाता.