close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

किसानों के मुद्दे पर कांग्रेस प्रदेशभर में करेगी प्रदर्शन, राष्ट्रपति के नाम कलेक्टर को सौंपेगी ज्ञापन

मध्य-प्रदेश में किसानों के मुद्दों की राजनीति गरमा गई है. आज सत्ताधारी कांग्रेस और बीजेपी दोनों का किसानों के मुद्दे पर प्रदर्शन हैं. कांग्रेस केंद्र की BJP सरकार के खिलाफ आंदोलन करने जा रही है.

किसानों के मुद्दे पर कांग्रेस प्रदेशभर में करेगी प्रदर्शन, राष्ट्रपति के नाम कलेक्टर को सौंपेगी ज्ञापन
(फाइल फोटो)

भोपालः मध्य-प्रदेश में किसानों के मुद्दों की राजनीति गरमा गई है. आज सत्ताधारी कांग्रेस और बीजेपी दोनों का किसानों के मुद्दे पर प्रदर्शन हैं. एक तरफ कांग्रेस केंद्र की BJP सरकार के खिलाफ आंदोलन करने जा रही है. तो वहीं BJP भी प्रदेश की मौजूदा कांग्रेस सरकार की विफलताओं और किसानों को मुआवजा नहीं दिए जाने जैसे मुद्दों को जनता के बीच भुनाने की कवायद में जुट गई है.

बता दें कांग्रेस बाढ़ और अतिवृष्टि की राहत राशि ना देने का आरोप लगाते प्रदेश भर में प्रदर्शन करेगी. प्रदेश के सभी जिला मुख्यालयों पर कांग्रेस कार्यकर्ता धरना देंगे, साथ ही कलेक्टर और संभागीय कमिश्नर को राष्ट्रपति के नाम ज्ञापन सौपेंगे. भोपाल में भी जिला कांग्रेस कमेटी के कार्यकर्ता पैदल मार्च और धरना प्रदर्शन करेंगे.

देखें LIVE TV

मध्य प्रदेश में जारी है अंडों पर सियासत, कांग्रेस-भाजपा में मचा घमासान

ये लोग राजभवन पहुंचकर राज्यपाल को राष्ट्रपति के नाम ज्ञापन सौपेंगे. ज्ञापन में राष्ट्रपति से केंद्र सरकार को राज्य के लिए राहत राशि दिए जाने का आदेश देने के लिए निवेदन किया जाएगा. खबर है कि मुख्यमंत्री कमलनाथ पीएम मोदी से मिलकर 6621 करोड़ रुपये की राहत राशि देने का निवेदन कर चुके हैं.

MP: बीजेपी को झटका, MLA प्रह्लाद लोधी की पवई सीट से सदस्यता खत्म, अब होगा उपचुनाव

उधर बीजेपी कमलनाथ सरकार के खिलाफ प्रदेश भऱ में प्रदर्शन करेगी. जिसकी जिम्मेदारी अलग-अलग जिलों में बड़े नेताओं को दी गई. नरसिंहपुर में बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह. रीवा में पूर्व सीएम शिवराज सिंह चौहान और भोपाल में नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव के नेतृत्व में आंदोलन होगा. हालांकि सवाल ये भी उठ रहा है... कि भोपाल समेत कुछ जगहों पर प्रशासन ने धारा- 144 लागू की है और आज के प्रदर्शन के लिए किसी भी पार्टी को इजाजत नहीं दी गयी है. तो क्या दोनों ही पार्टियां प्रशासनिक व्यवस्था धता बताते हुए प्रदर्शन करेंगी.