close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

जेल में बंद कैदियों के बच्चों की जिंदगी सुधारने में जुटे कलेक्टर संजय अलंग, किया यह बड़ा काम!

 डॉ. अलंग ने स्थानीय स्कूल संचालकों से बात की, और कई स्कूल संचालक खुशी को खुशी-खुशी अपने स्कूल में पढ़ाने को तैयार हो गए. 

जेल में बंद कैदियों के बच्चों की जिंदगी सुधारने में जुटे कलेक्टर संजय अलंग, किया यह बड़ा काम!
कलेक्टर संजय अलंग की पहल पर जेल में रह रहे 17 अन्य बच्चों को भी बाहर स्कूल में दाखिला दिलाने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है. (फोटो साभारः Facebook)

बिलासपुरः आम तौर पर सरकारी अधिकारी, कर्मचारी अपनी आधिकारिक जिम्मेदारियों को निभाने तक ही सीमित रहते हैं, मगर छत्तीसगढ़ के बिलासपुर जिले के जिलाधिकारी (कलेक्टर) डॉ. संजय कुमार अलंग जेल में विभिन्न अपराधों में बंद कैदियों के बच्चों की जिंदगी बदलने में जुटे हुए हैं. बिलासपुर के केंद्रीय जेल में पहुंचे जिलाधिकारी अलंग ने एक छह साल की मासूम खुशी (बदला हुआ नाम) को महिला कैदियों के बीच देखा तो उन्होंने उसी मौके पर कह दिया कि अब खुशी जिले के किसी बड़े स्कूल में पढ़ने जाएगी. इसके लिए डॉ. अलंग ने स्थानीय स्कूल संचालकों से बात की, और कई स्कूल संचालक खुशी को खुशी-खुशी अपने स्कूल में पढ़ाने को तैयार हो गए. 

डॉ. अलंग वादे के मुताबिक खुशी को बीते सप्ताह अपनी कार में बैठाकर केंद्रीय जेल से स्कूल छोड़ने गए. खुशी कलेक्टर की उंगली पकड़कर स्कूल के अंदर तक गई. खुशी एक हाथ में बिस्किट और दूसरे में चाकलेट लिए हुए थी और वह स्कूल जाने के लिए जेल में सुबह ही तैयार हो गई थी. डॉ. अलंग कहते हैं, "जेल में रहने से बच्चों का मानसिक विकास नहीं हो पाता है. मैंने जेल में देखा कि मासूम बच्चे भी हैं, और तभी मैंने तय कर लिया कि बच्चों को पढ़ने के लिए जेल के बाहर स्थित स्कूल भेजा जाएगा."

छत्तीसगढ़ में बड़ा रेल हादसा होते-होते टला, टूटा हुआ था रेलवे ट्रैक

बीते सप्ताह जब खुशी डॉ. अलंग के साथ स्कूल जा रही थी, तब उसके पिता खुशी से गले लिपटकर रो पड़े थे, लेकिन खुशी तो बेहद खुश थी कि अब वह स्कूल के छात्रावास में ही रहेगी और 12वीं तक की पढ़ाई स्कूल में रहकर करेगी. जैन इंटरनेशनल स्कूल के संचालक अशोक अग्रवाल का कहना है कि खुशी की पढ़ाई और छात्रावास का खर्च स्कूल प्रबंधन ही उठाएगा.  जिलाधिकारी अलंग की पहल को बड़ी उपलब्धि बताते हुए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने भी ट्वीट कर कहा, "बिलासपुर कलेक्टर के मानवीय कदम की जितनी प्रशंसा की जाए कम है. साथ ही जेल प्रशासन एवं स्थानीय प्राशासन भी बधाई का पात्र है. आखिर हम सब जनता के ही तो सेवक हैं. ऐसे कदमों से जनता का सरकार और प्रशासन पर विश्वास और बढ़ेगा."

छत्तीसगढ़ की बेटी को दिल्ली से मिला न्योता, प्रधानमंत्री बॉक्स से देखेंगी गणतंत्र दिवस की परेड

जेल सूत्रों के अनुसार, "खुशी के पिता केंद्रीय जेल बिलासपुर में एक अपराध में सजायाफ्ता कैदी हैं. पांच साल की सजा काट ली है, पांच साल और जेल में रहना है. खुशी जब पंद्रह दिन की थी, तभी उसकी मां की मौत पीलिया से हो गई थी. पालन-पोषण के लिए घर में कोई नहीं था. इसलिए उसे जेल में ही पिता के पास रहना पड़ रहा था. जब वह बड़ी होने लगी तो उसकी परवरिश का जिम्मा महिला कैदियों को दे दिया गया. वह जेल के अंदर संचालित प्ले स्कूल में जाती थी." जिलाधिकारी की पहल पर जेल में रह रहे ऐसे 17 अन्य बच्चों को भी जेल से बाहर स्कूल में दाखिला दिलाने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है. जिले के कई स्कूल ऐसे हैं, जिनके संचालक इन बच्चों को अपने स्कूलों में रखने के लिए तैयार हो गए हैं. 

(इनपुटः आईएएनएस)