close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

पतियों की हरकतों से पत्नियां परेशान, कोई बुखार में इंजेक्‍शन लगाता है तो कोई जानवरों की दवाई खिलाता है

आयोग के सामने महिला ने बताया कि उसकी शादी 4 साल पहले कोलार निवासी डॉ. लोकेंद से हुई थी. शादी के बाद से जब भी महिला को तबयीत थोड़ी सी बिगड़ती, डॉक्टर पति उसे इंजेक्शन दे देता था. इतना ही नहीं जब महिला घर की सफाई करती थी, तब पति उससे दो बार पोछा लगवता था. 

पतियों की हरकतों से पत्नियां परेशान, कोई बुखार में इंजेक्‍शन लगाता है तो कोई जानवरों की दवाई खिलाता है
महिला का कहना है कि प्रमोद इंसान और जानवरों की बीमारी में कोई अंतर नहीं समझते हैं. (फोटो साभार: India.com)

भोपाल : मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में इन दिनों कुछ महिलाएं, अपने पतियों की हरकतों से परेशान हो गई हैं और महिला आयोग के पास मदद मांगने के लिए पहुंची है. आयोग में डॉक्टर पति की शिकायत लेकर पहुंची महिला का कहना है कि कोई भी बीमारी में उसका पति टैबलेट देने की बजाय इंजेक्शन लगा देता है. वहीं, इंजीनियर की पत्नी का कहना है कि उनका पति घर के सारे बिजली वाले उपकरण खोल देता  है, जिससे वह परेशान हो गई है.

घर में दो बार लगवाते हैं पोछा-महिला
पत्रिका में छपी खबर
के मुताबिक आयोग के सामने महिला ने बताया कि उसकी शादी 4 साल पहले कोलार निवासी डॉ. लोकेंद से हुई थी. शादी के बाद से जब भी महिला को तबयीत थोड़ी सी बिगड़ती, डॉक्टर पति उसे इंजेक्शन दे देता था. इतना ही नहीं जब महिला घर की सफाई करती थी, तब पति उससे दो बार पोछा लगवता है. 

घर के सारे उपकरण खोल देता है पति-महिला
एक इंजीनियर की पत्नी ने कहा है कि उनकी शादी 5 साल पहले अशोका गार्डन में रहने वाले मनीष के साथ हुई थी. शादी के बाद से ही घर में जब भी मशीन खराब होती है तो मनीष खुद उसे ठीक करने लगते हैं, लेकिन दोबारा फिट नहीं करते हैं. दोबारा फिट ना होने के कारण कई सारे उपकरण खराब हो गए हैं, जिसके कारण उन्हें वो सामान कबाड़ में बेचना पड़ता है. 

नहीं समझते जानवरों और इंसानों में अंतर
वहीं, आयोग के सामने एक महिला ने कहा है कि उसकी शादी दो साल पहले वेटरेनरी डॉक्टर प्रमोद से हुई थी. महिला का कहना है कि प्रमोद इंसान और जानवरों की बीमारी में कोई अंतर नहीं समझते हैं. जब भी घर में कोई बीमार पड़ता है तो प्रमोद अपने बैग से दवाई निकालकर उसे दे देते हैं, जिसके कारण कई बार बीमारी और भी ज्यादा बढ़ गई है. 

संयुक्त बेंच करेगी मामले की सुनवाई
महिलाओं की शिकायत सुनने के बाद मध्य प्रदेश महिला आयोग की अध्यक्ष लता वानखेड़े ने अखबार से कहा कि इन महिलाओं के आवेदन संयुक्त बेंच के सामने रखे गए हैं. दोनों पक्षों को सुनने के बाद ही फैसला लिया जाएगा.   

एक पीड़ित पति भी पहुंचा महिला आयोग
महिलाओं की शिकायत के बीच एक पीड़ित पति भी महिला आयोग पहुंचा है और पत्नी के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई है. शख्स का कहना है कि उसकी पत्नी रविवार सुबह उठते ही उसे कामों की लिस्ट पकड़ा देती है, जिसमें नाश्ता बनाने से लेकर घर की सफाई तक का काम लिखा होता है.