close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

छत्तीसगढ़: साथियों की मौत देख डर से छिप रहा था नक्सली, पुलिस टीम के हत्थे चढ़ा

गिरफ्तार किए गए नक्सली पर पुलिस पर हमला करने और बम लगाने समेत कई गंभीर आरोप लगे हुए हैं.

छत्तीसगढ़: साथियों की मौत देख डर से छिप रहा था नक्सली, पुलिस टीम के हत्थे चढ़ा

देवेन्द्र मिश्रा/धमतरी: छत्तीसगढ के धमतरी मे नक्सल इलाके मे सर्चिंग पर निकली डीआरजी की टीम को बड़ी कामयाबी हाथ लगी है. पुलिस ने कट्टीगांव और खालसाबुडरा जंगल से सीतानदी एरिया कमेटी के एक माओवादी सदस्य को गिरफ्तार किया है. दरअसल, एसपी बालाजी राव के निर्देश पर थाना बोरई एवं डीआरजी की पुलिस टीम नक्सल सर्चिंग अभियान के तहत थाना बोरई क्षेत्र के अंतर्गत ग्राम कट्टीगांव खालसाबुड़रा के मध्य जंगलों की ओर निकली थी. 

इसी दौरान कट्टीगांव खालसाबुडरा के मध्य जंगलों में सर्चिग के दौरान एक संदिग्ध व्यक्ति पुलिस टीम को देखकर भागने लगा, जिसे घेराबंदी कर पकड़ा गया. पकड़े गए व्यक्ति की पहचान प्रतिबंधित माओवादी संगठन सीतानदी एरिया कमेटी के सदस्य रामु उर्फ राम्यू वेक्यिो निवासी ग्राम घुसावड थाना भैरमगढ़ जिला बीजापुर के रूप मे की गई.

 

एएसपी मनीषा ठाकुर ने बताया कि माओवादी नक्सली वर्ष 2013 से माओवादी संगठन मे जडकर मिरतुर क्षेत्र मे कार्य कर रहा था. वर्ष 2015 मे मिरतुर दलम से नक्सली संगठन सीतानदी एरिया कमेटी के सक्रिय सदस्य के रूप में जुड़कर सीतानदी एरिया कमेटी संगठन के अन्य सक्रिय नक्सलियों के साथ मिलकर काम कर रहा था.

उक्त नक्सली माह सितंबर 2015 में एकावरी आमझर रोड देवडोगरी पहाड़ी के पास टिफिन बम लगाने में माह नवंबर 2015 में, ग्राम आमझर जंगल के पास पुलिस पार्टी पर जानलेवा हमला करने में, सितंबर 2017 मे जोगीबिरदो में शत्रुघ्न की हत्या, सितंबर 2018 में कारीपानी में टिफिन बम लगाने, जून 2019 में कट्टीगांव पुलिस मुठभेड़ और जुलाई 2019 में संतबाहरा के जंगल में हुए पुलिस नक्सली मुठभेड़ की घटनाओं में शामिल था. 

मुठभेड़ में लगातार अपने साथी नक्सलियों की मृत्यु होते देख भयभीत होकर अलग-अलग होकर पुलिस से लुका छिपी कर रहा था. नक्सली रामू उर्फ राम्यू वेक्यो को गिरफ्तार कर न्यायिक रिमांड मे भेजा गया है. बताया जा रहा है कि वर्तमान में लगातार सर्चिंग अभियान व पुलिस की कार्यवाही से डरकर नक्सली अपने संगठन से बिछड़ कर तितर-बितर होकर छिपने का प्रयास कर रहे हैं.