उज्जैन में लॉकडाउन का असर, शिप्रा नदी के रामघाट पर नहीं दिया गया सूर्य को अर्घ्य

हर वर्ष जहां भारी संख्या में शिप्रा नदी किनारे राम घाट पर महिला और पुरुष सूर्य को अर्घ्य देते हैं वहीं इस बार बड़े गणेश मंदिर पर ही सुबह सूर्य को अर्घ्य दिया गया और पूजा अर्चना की गई.

उज्जैन में लॉकडाउन का असर, शिप्रा नदी के रामघाट पर नहीं दिया गया सूर्य को अर्घ्य
प्रतीकात्म तस्वीर

मनोज जैन/उज्जैन: हिन्दू मान्यता के अनुसार मनाये जाने वाले नव वर्ष की शुरुवात आज से हो चुकी है. हर साल गुड़ी पड़वा के दिन नववर्ष की शुरुआत होती है. उज्जैन में भी इसे पुरे हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है, लेकिन इस Coronavirus के खतरे देखते हुए इसका रंग फीका पड़ता दिख रहा है. जिसके कारण उज्जैन में इसका असर दिखाई दिया.

हर वर्ष जहां लोग भारी संख्या में शिप्रा नदी किनारे राम घाट पर महिला और पुरुष सूर्य को अर्घ्य देते हैं वहीं इस बार बड़े गणेश मंदिर पर ही सुबह सूर्य को अर्घ्य दिया गया और पूजा अर्चना की गई.

लॉकडाउन में CM शिवराज की जनता से पैनिक न होने की अपील, रोजमर्रा की चीजें उपलब्ध कराएगी सरकार

आज सूर्य को अर्घ्य देने के लिए बड़े गणेश मंदिर पर पंडित आनंद शंकर व्यास और कुछ लोग इकट्ठा हुए जिन्होंने अल सुबह सूर्य को अर्घ्य दिया. इस मौके पर ख्यात ज्योतिषाचार्य पंडित आनंद शंकर व्यास का कहना है कि कोरोना वायरस से फैली महामारी अभी सवा महीने और रहेगी जिसके बाद पूरी दुनिया में यह खत्म हो जाएगी.    

Covid-19 की वजह से कई जरुरी कार्यक्रमों पर असर पढ़ रहा हैं. कल देर शाम 24  मार्च को प्रधानमंत्री  नरेंद्र मोदी ने देश को सम्बोधित करते हुए 14 प्रैल तक लॉक डाउन की घोषणा की, जिसके बाद अब सभी लोग घर में ही कैद हो गए हैं.