close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

EC ने पूरी की झाबुआ उपचुनाव की तैयारियां, सुरक्षा में तैनात किए गए 2000 पुलिस जवान

 झाबुआ में उपचुनाव की वोटिंग के लिए 356 पोलिंग बूथ बनाए गए हैं. साथ ही 1500 से ज्यादा कर्मचारियों को ड्यूटी लगाई गई है. करीब 2 हजार जवान सुरक्षा में तैनात किए गए हैं.

EC ने पूरी की झाबुआ उपचुनाव की तैयारियां, सुरक्षा में तैनात किए गए 2000 पुलिस जवान

झाबुआः झाबुआ उपचुनाव के लिए कल मतदान होना है. इसके लिए निर्वाचन आयोग ने अपनी तैयारियां पूरी कर ली है. आज झाबुआ के पॉलिटेक्निक कॉलेज से पोलिंग पार्टियों को रवाना किया जाएगा. झाबुआ में उपचुनाव की वोटिंग के लिए 356 पोलिंग बूथ बनाए गए हैं. साथ ही 1500 से ज्यादा कर्मचारियों को ड्यूटी लगाई गई है. करीब 2 हजार जवान सुरक्षा में तैनात किए गए हैं.

विधानसभा क्षेत्र झाबुआ में कुल 356 मतदान केंद्र बनाये गये हैं, जहां 21 अक्टूबर को सुबह 7 बजे से शाम  5 बजे तक मतदान होगा. आयोग के निर्देषानुसार सुबह 5.30 बजे मोकपोल किया जाएगा.  मतगणना 24 अक्टूबर को पोलिटेक्निक कॉलेज झाबुआ में की जाएगी. भारत निर्वाचन आयोग द्वारा जारी निर्देशो के अनुसार वोटिंग वाले दिन मॉक पोल अब वोटिंग शुरू होने के डेढ घंटे पहले करना होगा.  सुबह 7 बजे से वोटिंग शुरू होगी. ऐसे में साढे 5 बजे मॉक पोल किया जाएगा.  इसके बाद ईवीएम को सील कर रिसेट करके वोटिंग के लिए तैयार रखा जाएगा. 

देखें LIVE TV

झाबुआ उपचुनाव में भी उठा कर्ज माफी का मुद्दा, सोशल मीडिया पर आमने-सामने BJP-कांग्रेस

मतदान के दिन सेक्टर अधिकारी सहित अन्य अधिकारी सतत मानीटरिंग करेंगे. इस दौरान 100 वाहन भ्रमण पर रहेंगे. जिले में 4 सीआईएसएफ की कंपनी क्रिटीकल मतदान केन्द्रों पर तैनात की जाएगी, 4 एसएएफ कंपनी के जवान सेवाएं देंगे और 600 पुलिसकर्मी अन्य जिलों से आये हैं, जो मतदान केन्द्रों पर तैनात किये गये हैं.

गोपाल भार्गव ने कांग्रेस प्रत्याशी को बताया था पाक प्रतिनिधि, EC ने दी हिदायत  

भारत निर्वाचन आयोग द्वारा विधानसभा क्षेत्र-193 झाबुआ के उपनिर्वाचन 2019 में मतदाताओं की पहचान के संबंध में निर्देश जारी किए गए हैं.  इस निर्वाचन में पूर्व की तरह बीएलओ की ओर से प्रदान की गई मतदाता पर्ची से मतदान करना संभव नहीं होगा. मतदाता पर्ची से मतदान केन्द्र, मतदाता का क्रमांक जैसे अन्य चीजों की जानकारी प्राप्त की जा सकेगी. मतदान करने के लिए मतदाता पर्ची के साथ पहचान के लिए ईपिक कार्ड या वैकल्पिक दस्तावेज साथ लेकर आना अनिवार्य है.