शौचालय में 'जल्दबाज़ी' क्यों?

कवर्धा के कांपा गांव को 26 जनवरी को ODF घोषित किया गया था लेकिन इस गांव की हकीकत कुछ और ही है। 

शौचालय में 'जल्दबाज़ी' क्यों?

कवर्धा: कांपा गांव के लोगों ने कलेक्टर और ज़िला पंचायत सीईओ से सरपंच की शिकायत की है और उस पर कार्रवाई की मांग की है।

दरअसल, 26 जनवरी को कांपा गांव को खुले में शौचमुक्त घोषित किया गया था। लेकिन गांववालों का कहना है कि अभी तक कई घरों में शौचालय बने ही नहीं।

लोगों का आरोप है कि गांव के सरपंच ने गलत लिस्ट तैयार कर अधिकारियों को गुमराह किया। लोग इस बारे में कई बार अपने घरों में शौचालय बनवाने की मांग कर चुके हैं।

लेकिन सरपंच उनकी मदद नहीं कर रहा है। ग्रामीणों की शिकायत पर ज़िला पंचायत सीईओ ने मामले की जांच कर कार्रवाई का भरोसा दिया है।

अब सवाल ये है कि क्यों कांपा गांव को जल्दबाज़ी में खुले में शौचमुक्त घोषित किया गया।