टीकमगढ़: विवादित जमीन पर कब्जा करने वाले किसान की आत्महत्या की कोशिश, हुआ गिरफ्तार

जमीन पर कब्जे को लेकर दो पक्षों में लंबे समय से विवाद चल रहा था. जिस पर तहसीलदार के आदेश के बाद राजस्व टीम सीमांकन करने गई थी.

टीकमगढ़: विवादित जमीन पर कब्जा करने वाले किसान की आत्महत्या की कोशिश, हुआ गिरफ्तार
किसान प्रमोद कटारे द्वारा मौके पर हंगामा करने और मामला कोर्ट में होने के चलते सीमांकन के लिये 10 दिन का समय और बढ़ा दिया गया है.

टीकमगढ़: एक विवादित जमीन का सीमांकन करने गई राजस्व व पुलिस टीम के सामने किसान ने जमकर हंगामा काटा. बडागांव थाना क्षेत्र के जमुनिया खेरा गांव में जमीन के सीमांकन के लिए पहुंची टीम के सामने किसान ने अपने शरीर पर पहले केरोसिन छिड़का और फिर आत्मदाह की कोशिश की. हालांकि, मामला बढ़ता देख पुलिस ने प्रकरण दर्ज किया और किसान प्रमोद कटारे को गिरफ्तार कर लिया. बताया जा रहा है कि जमीन पर कब्जे को लेकर दो पक्षों में लंबे समय से विवाद चल रहा था. जिस पर तहसीलदार के आदेश के बाद राजस्व टीम सीमांकन करने गई थी.

दरअसल, जमुनिया खेरा गांव में सड़क किनारे स्थित जमीन को लेकर चम्पाबाई और किसान प्रमोद कटारे के बीच विवाद चल रहा है. टीकमगढ़-सागर हाईवे पर रोड किनारे लगी जमीन चम्पा बाई के नाम से राजस्व दस्तावेजों में दर्ज है. लेकिन, आरोप है कि इस जमीन के कुछ हिस्से पर गांव का एक किसान प्रमोद कटारे लंबे समय से कब्जा जमाए बैठा है. 

ये पूरा मामला ग्वालियर राजस्व न्यायालय में चला, जहां से कोर्ट ने प्रमोद कटारे का आवेदन निरस्त कर दिया. और चम्पा बाई को सीमांकन कर कब्जा देने का आदेश टीकमगढ़ के बड़ागांव धसान राजस्व विभाग को दिया. लेकिन जब राजस्व अमला पुलिस टीम के साथ चम्पा बाई को लेकर जमीन का सीमांकन करने पहुंचा, तो किसान प्रमोद कटारे ने हंगामा कर दिया. किसान ने अपने शरीर पर केरोसिन डालकर आग लगाने का प्रयास किया. हालांकि किसान खुद को आग लगा पाता इससे पहले ही मौके पर मौजूद पुलिस ने उसे पकड़ लिया और अपने साथ थाने ले गई. जहां प्रमोद कटारे के खिलाफ मामला दर्ज कर वैधानिक कार्रवाई शुरू कर दी गई है.

वहीं, अब विवादित जमीन के सीमांकन की प्रक्रिया को फिलहाल आगे बढ़ा दिया गया है. किसान प्रमोद कटारे द्वारा मौके पर हंगामा करने और मामला कोर्ट में होने के चलते सीमांकन के लिये 10 दिन का समय और बढ़ा दिया गया है.