close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

गांव से मगरमच्छ पकड़कर लाई वन विभाग की टीम, रात में पिंजरा काटकर भाग गया और फिर...

मध्यप्रदेश के मंदसौर के वन विभाग के दफ्तर परिसर से पिंजरे को तोड़कर एक मगरमच्छ भाग खड़ा हुआ.

गांव से मगरमच्छ पकड़कर लाई वन विभाग की टीम, रात में पिंजरा काटकर भाग गया और फिर...

मनीष पुरोहित. मंदसौर: मध्यप्रदेश के मंदसौर के वन विभाग के दफ्तर परिसर से पिंजरे को तोड़कर एक मगरमच्छ भाग खड़ा हुआ. यह मगरमच्छ पास के मजिस्ट्रेट बंगले के परिसर में घुस गया, जहां से इसे बड़ी मशक्कत के बाद वन विभाग के कर्मचारियों ने पकड़ा. राहत की बात यह रही कि इस दौरान कोई हादसा नहीं हुआ. वन विभाग के अधिकारियों ने वन विभाग के परिसर से पिंजरा तोड़कर इस खतरनाक जीव के निकल जाने की इस बड़ी लापरवाही पर चुप्पी साधी हुई है.

जेल तोड़कर भागते कैदियों के बारे में तो आपने सुना होगा लेकिन क्या आपने कभी सुना है कि कोई मगरमच्छ पिंजरा तोड़कर भाग खड़ा हुआ हो. मध्यप्रदेश के मंदसौर में ऐसा ही एक मामला सामने आया जहां वन विभाग के पिंजरे से एक मगरमच्छ पिंजरा तोड़कर भाग खड़ा हुआ और पास के एक मजिस्ट्रेट बंगले में घुस गया जिसे बड़ी मशक्कत के बाद पकड़ा गया. मगरमच्छ को शुक्रवार रात एक गांव से पकड़कर लाया गया था. सुबह इसे नदी में छोड़ा जाना था लेकिन रात में ही यह पिंजरा तोड़कर भाग खड़ा हुआ. दोबारा पकड़े जाने के बाद इस मगरमच्छ को चंबल नदी में छोड़ दिया गया है.

Video : समुद्र किनारे मनाने गए थे हनीमून और मगरमच्‍छ से हुआ सामना

शासकीय आवास परिसर में दौड़ता भागता मगरमच्छ और इसे पकड़ने के लिए मशक्कत करते वन विभाग के कर्मचारी. वन विभाग के कर्मचारियों को इसको जानकारी लगी. तुरंत आनन-फानन में पकड़ने के लिए टीम पहुंची लेकिन मगरमच्छ कहां आसानी से हाथ में आने वाला था, उसने भी काफी देर तक वन विभाग की टीम को छकाया. आखिरकार वन विभाग की टीम ने उसे दबोच ही लिया. दबोचे जाने के बाद इसे पिंजरे में डालकर चंबल नदी में छोड़ा गया. 

 

दरअसल, यह मगरमच्छ शुक्रवार रात एक गांव से पकड़ा गया था जिसके बाद इसे सुबह छोड़े जाने के लिए ले जाया जाना था. सुबह तक के लिए इसे वन विभाग में एक पिंजरे में रखा गया था लेकिन रात में ही पिंजरा तोड़कर मगरमच्छ भाग खड़ा हुआ. आखिरकार भगोड़ा मगरमच्छ वन विभाग के कब्जे में आया और वन विभाग के अधिकारियों ने राहत की सांस ली. लेकिन इस गंभीर लापरवाही के बाद वन विभाग के अधिकारी कर्मचारी मीडिया से कोई भी बात करने से कतरा रहे हैं.