close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

ऑनलाईन बिजनेस के नाम पर कर रहे थे धोखाधड़ी, 2 महिलाओं सहित 3 गिरफ्तार

वास के गोमती नगर में रहने वाली एक महिला ने SP को आवेदन देकर मांग की थी कि वर्ष 2018 में दो महिलाओं के साथ कुछ अन्य लोगों ने उसके साथ धोखाधड़ी की है. आवेदन की जांच के बाद औद्योगिक थाना पुलिस ने प्रकरण दर्ज किया.

ऑनलाईन बिजनेस के नाम पर कर रहे थे धोखाधड़ी, 2 महिलाओं सहित 3 गिरफ्तार
क अन्य महिला लीला पति अमित शर्मा ने 6 लाख 67 हजार रूपए जमा किए.

मनोज जैन/देवासः मध्य प्रदेश के देवास के गोमती नगर में रहने वाली एक महिला ने SP को आवेदन देकर मांग की थी कि वर्ष 2018 में दो महिलाओं के साथ कुछ अन्य लोगों ने उसके साथ धोखाधड़ी की है. आवेदन की जांच के बाद औद्योगिक थाना पुलिस ने प्रकरण दर्ज किया. पुलिस ने इस मामले में दो महिलाएं और मुख्य सरगना को गिरफ्तार किया है. दरअसल, देवास के गोमती नगर की रहने वाली महिला प्रतिभा निरंजन प्रसाद के साथ वर्ष 2018 में अंशुल पति नितिन यादव निवासी मिश्रीलाल नगर और विधुबाला पति अनिस ने कहा कि ऑनलाइन बिजनेस में रूपए लगाने पर अच्छा मुनाफा मिलेगा. यह बड़ा आसान है और इसे घर पर बैठे मोबाइल और लेपटॉप से आपरेट किया जा सकता है. इस ऑनलाइन बिजनेस से हर महीने 1 लाख रूपए की कमाई होगी.

इसके लिए उन्हें पहले 2 लाख 70 हजार रूपए जमा करने होंगे. प्रतिभा ने लालच में आकर 2 लाख 70 हजार रूपए जमा कर दिए. जिसके बाद दोनों महिलाओं ने प्रतिभा को झांसे में लेने के लिए कहा कि और भी लोगों का यह स्कीम बताओ. जितने ज्यादा लोग जुड़ेंगे उतना मुनाफा होगा.

UP ATS ने भोपाल से पति-पत्नी को किया गिरफ्तार, नक्सल गतिविधि में शामिल होने का है आरोप

अंशुल के पति नितिन यादव ने कुछ दिनों बाद प्रतिभा के खाते में कमीशन के 14 हजार रूपए भी जमा किए. जिससे प्रतिभा को यकीन हो गया. जिसके बाद प्रतिभा ने इस स्कीम के बारे में और लोगों को बताया. जिसके चलते भारतसिंह चौहान निवासी प्रेमनगर ने 2 लाख 70 हजार रूपए जमा करवाए. वहीं एक अन्य महिला लीला पति अमित शर्मा ने 6 लाख 67 हजार रूपए जमा किए.

झूठे चोरी के आरोप से परेशान था युवक, तंग आकर SP ऑफिस के सामने खुद को लगा ली आग

लीला को ट्रेनिंग के नाम पर दुबई भी ले गए. वहीं प्रतिभा को भी कहा गया उसे भी ट्रेनिंग के लिए विदेश ले जाएंगे और स्कीम का कमीशन भी मिलता रहेगा. वहीं कुछ दिनों बाद ये सभी लोग गायब हो गए, जिसके बाद हर तरह से इनसे संपर्क करने की कोशिश की गई, लेकिन किसी का कुछ पता नहीं चला. इस पूरे स्कीम का मुख्य सरगना इमरान निवासी झांसी है. जो फिलहाल दिल्ली में रहता है और उसका इंदौर आना जाना है. बताया जा रहा है कि इन लोगों ने इस तरह कई लोगों से धोखाधड़ी की है. पुलिस ने अंशुल यादव और विधु बाला के साथ मुख्य सरगना इमरान अली को गिरफ्तार कर लिया है.