गौरवशाली मध्य प्रदेश: शहीदों और कोरोना वॉरियर्स को ZEE MPCG का सलाम, इनका होगा सम्मान

इन जवानों में किसी ने देश की रक्षा करते हुए सीमा पर सर्वोच्च बलिदान दिया तो किसी ने कोरोना महामारी के दौर में ड्यूटी निभाते हुए कोविड की चपेट में आने से अपनी जान गंवाई. ZEE मीडिया के ''गौरवशाली मध्य प्रदेश'' कार्यक्रम में आज शाम इन शहीदों के परिवार वालों को सम्मानित किया जाएगा.

गौरवशाली मध्य प्रदेश: शहीदों और कोरोना वॉरियर्स को ZEE MPCG का सलाम, इनका होगा सम्मान
सांकेतिक तस्वीर.

भोपाल: जी न्यूज मध्य प्रदेश छत्तीसगढ़ (ZEE MPCG) उन सभी शहीद जवानों को सलाम करता है जिन्होंने देश के लिए अपने प्राण न्योछावर कर दिए. ये जवान देश के साथ ही मध्य प्रदेश के गौरव हैं. इन जवानों में किसी ने देश की रक्षा करते हुए सीमा पर सर्वोच्च बलिदान दिया तो किसी ने कोरोना महामारी के दौर में ड्यूटी निभाते हुए कोविड की चपेट में आने से अपनी जान गंवाई. ZEE मीडिया के ''गौरवशाली मध्य प्रदेश'' कार्यक्रम में आज शाम इन शहीदों के परिवार वालों को सम्मानित किया जाएगा. उन शहीदों की जानकारी नीचे दी गई है जिनके परिजनों का आज शाम ''गौरवशाली मध्य प्रदेश'' कार्यक्रम में सम्मान होना है...

शिवराज सरकार में कैसा है प्रदेश का हाल? MP कैसे बनेगा आत्मनिर्भर, जानने के लिए देखें 'गौरवशाली मध्य प्रदेश'

शहीद मनीष विश्वकर्मा
जम्मू-कश्मीर के उरी सेक्टर में 25 अगस्त 2020 को हुए एक बम धमाके मे राजगढ़ जिले के खुजनेर निवासी जवान मनीष विश्वकर्मा शहीद हो गए थे. 22 वर्षीय शहीद जवान मनीष विश्वकर्मा का सवा साल पहले ही विवाह हुआ था. उनके परिवार में माता-पिता के अलावा एक बड़े भाई हैं. उनका नाम हरीश है. वह पहले से ही भारतीय सेना में अपनी सेवाएं दे रहे हैं. बड़े भाई से प्रेरित होकर ही मनीष भी सेना में भर्ती हुए थे. 

शहीद संदीप यादव
देवास जिले के कुलाला गांव के रहने वाले जवान संदीप यादव 12 जून 2019 को जम्मू कश्मीर के अनंतनाग में आतंकियों से लोहा लेते हुए शहीद हो गए थे. संदीप ने मरने से पहले दो आतंकियों को को मार गिराया. इस दौरान उनका शरीर भी गोलियों से छलनी हो गया. शहीद संदीप यादव का बेटा भी अपने पिता की तरह फौज में जाना चाहता है और देश की सेवा करना चाहता है.

हवलदार मुकेश पटेल 
भारतीय सेना के जवान मुकेश पटेल लद्दाख में तैनात थे. वह हवलदार के पद पर थे. 13 दिसंबर 2020 की दरमियानी रात को जब वह -18 डिग्री टेंपरेचर में ड्यूटी कर रहे थे तभी अचानक उनकी हृदय गति धीरे-धीरे रुकने लगी. उनकी हालत बिगड़ती गई, मुकेश को आर्मी अस्पताल में भर्ती कराया गया. इलाज के दौरान उन्होंने दम तोड़ दिया. मुकेश देवास जिले के चिडावद गांव के रहने वाले थे, जहां हर दूसरे घर में एक फौजी मिलेगा. 

जी मीडिया कोरोना काल में ड्यूटी के दौरान अपने प्राण गंवाने वाले कोविड वॉरियर्स का भी करेगा सम्मान

ZEEMPC_Gauravshali-Madhya_Pradesh

WATCH LIVE TV