MP: ग्वालियर नगर निगम द्वारा झोपड़ियां तोड़ने पर भड़के मंत्री प्रद्युम्न सिंह, अधिकारियों को लगाई फटकार

 ग्वालियर नगर निगम ने सड़क किनारे बनी गरीबों की झोपड़ियों को तोड़ दिया.

MP: ग्वालियर नगर निगम द्वारा झोपड़ियां तोड़ने पर भड़के मंत्री प्रद्युम्न सिंह, अधिकारियों को लगाई फटकार
मंत्री ने अधिकारियों को जमकर फटकार लगाई

शैलेंद्र सिंह/ ग्वालियर: मध्यप्रदेश के ग्वालियर में नगर निगम ने स्वच्छता रैंकिंग में अव्वल आने के लिए सड़क किनारे बनी गरीबों की झोपड़ियों को तोड़ दिया है. इस कार्रवाई को लेकर खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर ने निगम के अधिकारियों को जमकर फटकार लगाई.

बताया जा रहा है कि नगर निगम की टीम आज सुबह ग्वालियर विधानसभा क्षेत्र के तानसेन नगर इलाके में पहुंची थी. इस दौरान अधिकारियों ने सड़क के किनारे बनी झोपड़ियों को तोड़ दिया. जैसे ही इस कार्रवाई की सूचना मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर को लगी, वो मौके पर पहुंच गए और अधिकारियों पर नाराजगी जाहिर की.

मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर की नाराजगी के बाद कलेक्टर, नगर निगम कमिश्नर और एसपी भी मौके पर पहुंचे. जिसके बाद तीनों अधिकारियों ने मंत्री प्रद्युम्न सिंह के साथ बंद कमरे में लगभग एक घंटे तक चर्चा की. मीटिंग के बाद निष्कर्ष ये निकला कि जिन गरीब परिवारों की झोपड़ियां नगर निगम ने तोड़ी हैं, उन्हें स्थाई आवास उपलब्ध कराए जाएंगे. इसके साथ ही उन्हें रेडक्रॉस से 50 -50 हजार रुपये की आर्थिक मदद भी दी जाएगी  और जब तक इनके लिए स्थाई आवासों का इंतजाम नहीं होता है, तब तक उन्हें किसी अन्य जगह पर रखा जाएगा.

वहीं इस मामले में मंत्री तोमर का कहना है कि हम चाहते हैं कि ग्वालियर साफ सफाई में अव्वल हो, लेकिन उसके लिए किसी गरीब के आशियाने को ना उजाड़ा जाए. हमारी सरकार की मंशा किसी गरीब का घर तोड़ने की नहीं है.

आपको बता दें कि पिछले 5 साल में नगर निगम का स्वच्छता को लेकर बजट लगभग 3 गुना बढ़ गया है. पहले जहां 20 करोड रुपए खर्च होते थे, वहीं अब नगर निगम स्वच्छता पर लगभग 60 करोड़ रुपये खर्च कर रहा है, लेकिन उसके बावजूद ग्वालियर जिले की रैंकिंग लगातार गिरती जा रही है, जिसको लेकर नगर निगम खासा चिंतित है.