ग्वालियर में मनाया गया गोडसे का बलिदान दिवस, हिंदू महासभा के दफ्तर में हुई पूजा, मचा बवाल

नाथूराम गोडसे (Nathuram Godse) की पूजा करने के बाद हिंदू महासभा (Hindu Mahasabha) ने स्कूल के पाठ्यक्रम में गोडसे को शामिल कराने के मांग की है.

ग्वालियर में मनाया गया गोडसे का बलिदान दिवस, हिंदू महासभा के दफ्तर में हुई पूजा, मचा बवाल

विवेक शुक्ला, नई दिल्ली/ग्वालियरः मध्यप्रदेश के ग्वालियर (Gwalior) में एक बार फिर हिंदू महासभा (Hidnu Mahasabha) ने महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे (Nathuram Godse) की पूजा की. नाथूराम गोडसे की आरती करने के लिए कई हिंदू सभा के कई नेता कार्यकर्ता मौजूद रहे. नाथूराम गोडसे (Nathuram Godse) की पूजा करने के बाद हिंदू महासभा (Hindu Mahasabha) ने स्कूल के पाठ्यक्रम में गोडसे को शामिल कराने के मांग की है और कहा है कि जल्द ही प्रशासन को इसके लिए ज्ञापन दिया जाएगा. वहीं मामले के सामने आने के बाद प्रदेश के जनसंपर्क मंत्री पीसी शर्मा ने  गोडसे की पूजा करने वालों पर कार्रवाई की बात कही है. ज्ञात हो कि आज ही के दिन 15 नवंबर 1949 को गोडसे को अंबाला जेल (Central Jail Ambala) में सूली परल लटकाया गया था.

ग्वालियर में गोडसे की पूजा का यह पहला मामला नहीं है . 2017 में आज के ही दिन शहर के दौलतगंज स्थित हिंदूसभा के दफ्तर में नाथूराम गोडसे की मूर्ति की स्थापना की गई थी जिसे बाद में प्रशासन ने हटवा दिया था. वहीं लोकसभा चुनाव के दौरान इसी कार्यालय में नाथूराम गोडसे की जंयती भी मनाई गई थी,  जिससे बड़ा बवाल खड़ा हो गया था. 19 मई को ग्वालियर के हिंदू महासभा कार्यालय में ही नाथूराम गोडसे की जंयती मनाई गई थी.

देखें VIDEO

ग्वालियर: कांग्रेस नेता और उनके दो बेटों पर दर्ज हुआ धोखाधड़ी का केस, जानिए पूरा मामला

इस दौरान सभा के सदस्यों ने नाथूराम गोडसे की तस्वीर की आरती की और परिचर्चा का आयोजन किया. इसके साथ ही इस मौके पर सभा के सदस्यों ने लोगों के बीच मिठाइयां भी बांटी थी और नाथूराम गोडसे (Nathuram Godse) की जयंती की शुभकामनाएं देते हुए एक-दूसरे का मुंह मीठा कराया था. इससे पहले लोकसभा चुनाव के दौरान भोपाल से भाजपा सांसद साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने गोडसे को राष्ट्रभक्त बताया था, जिसके चलते उन्हें जमकर आलोचनाओं का सामना करना पड़ा था.