close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

MP: नहीं थम रही बादलों से बरसती मुसीबत, 13 जिलों में भारी बारिश की चेतावनी

मौसम विभाग के अनुसार, कम दबाव का क्षेत्र बनने और द्रोणिका के गुजरने से राज्य के मौसम में बदलाव आया है. बारिश होने और बादलों के छाने से तापमान में भी गिरावट आई है.

MP: नहीं थम रही बादलों से बरसती मुसीबत, 13 जिलों में भारी बारिश की चेतावनी
फाइल फोटो

नई दिल्ली: मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल सहित राज्य के कई हिस्सों में गुरुवार को भी बादल छाए हुए है. वहीं मौसम विभाग ने आगामी 24 घंटों में राज्य के 13 जिलों में भारी बारिश की चेतावनी जारी की है. राज्य के अधिकांश हिस्सों में बीते एक सप्ताह से मौसम के मिजाज बदले हुए है. कहीं आसमान पर बादलों का डेरा है तो कहीं रुक-रुक कर बारिश हो रही है. मौसम विभाग के अनुसार, कम दबाव का क्षेत्र बनने और द्रोणिका के गुजरने से राज्य के मौसम में बदलाव आया है. बारिश होने और बादलों के छाने से तापमान में भी गिरावट आई है.

मौसम विभाग ने आगामी 24 घंटों में सागर, पन्ना, छतरपुर, दमोह, विदिशा समेत 13 जिलों में भारी बारिश होने की चेतावनी देते हुए ऑरेंज अलर्ट जारी किया है. गुरुवार को भोपाल का न्यूनतम तापमान 23.2 डिग्री सेल्सियस, इंदौर का 22.1 डिग्री, ग्वालियर का 23.8 डिग्री और जबलपुर का न्यूनतम तापमान 23.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया. वहीं बुधवार को भोपाल का अधिकतम तापमान 28.3 डिग्री सेल्सियस, इंदौर का 31.6 डिग्री सेल्सियस, ग्वालियर का 32.8 डिग्री सेल्सियस और जबलपुर का अधिकतम तापमान 31.7 डिग्री सेल्सियस रहा. 

मध्य प्रदेश में बारिश ने तोड़े सभी रिकॉर्ड, जानें क्या कहते हैं आंकड़े

बारिश ने तोड़े सारे रिकॉर्ड 
मध्यप्रदेश में एक जून 2019 से 17 सितंबर 2019 तक में 1192.2 मिलीमीटर बारिश दर्ज की जा चुकी है. यह LPA के इस अवधि के औसत से 33 प्रतिशत अधिक है. प्रदेश के 13 जिलों में (सभी पश्चिमी और मध्य क्षेत्र) LPA से 60 प्रतिशत अधिक वर्षा दर्ज की गई है. कुल 3 जिलों मंदसौर, आगर, नीमच में उनके LPA से दोगुनी वर्षा दर्ज की गई है. प्रदेश के राजगढ़, रायसेन, विदिशा, खंडवा, रतलाम, हरदा, मंडला, बालाघाट, सिवनी, सागर, मंदसौर, उज्जैन, आगर, नीमच, भोपाल, शाजापुर, नरसिंहपुर, देवास, मुरैना, श्योपुर, भिण्ड, निवाड़ी, सीहोर और अशोकनगर में अतिवर्षा से गंभीर स्थिति पैदा हुई है.