close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

HC के आदेश पर अतिक्रमण हटाने पहुंची टीम, कांग्रेस MLA बोले- मेरी लाश पर हटेगा अतिक्रमण

ग्वालियर प्रशासन सिरोल पहाड़िया पर हाईकोर्ट के आदेश पर अतिक्रमण हटाने पहुंचा था. 

HC के आदेश पर अतिक्रमण हटाने पहुंची टीम, कांग्रेस MLA बोले- मेरी लाश पर हटेगा अतिक्रमण
विधायक के विरोध के बाद प्रशासन चाहकर भी हाईकोर्ट के आदेश का पालन नही करा पाया.

कर्ण मिश्र/ग्वालियर: मध्य प्रदेश के ग्वालियर में हाईकोर्ट के आदेश से अतिक्रमण हटाने पहुंचे प्रशासन को कांग्रेस विधायक के विरोध पर लौटना पड़ा. इस दौरान कांग्रेस विधायक मुन्ना लाल गोयल ने कहा कि उनकी लाश पर ही अतिक्रमण हटेगा. वहीं, अब इस पर राजनीति शुरू हो गई है. बीजेपी सांसद विवेक शेजवलकर ने इस पर ऐतराज जताते हुए प्रशासन से विधायक के खिलाफ कोर्ट की अवमानना का मामला दर्ज कराने की मांग की है. वहीं, कमलनाथ सरकार में कैबिनेट मंत्री प्रद्युमन सिंह ने कहा कि विधायक ने संविधान के दायरे में विरोध किया है. लेकिन, कोर्ट की अवमानना के सवाल पर मंत्री के पास भी कोई जवाब नही था.

दरअसल, ग्वालियर प्रशासन सिरोल पहाड़िया पर हाईकोर्ट के आदेश पर अतिक्रमण हटाने पहुंचा था. क्षेत्र के कांग्रेस विधायक मुन्ना लाल गोयल अड़ गए. विधायक गोयल धरने पर बैठ गए और चेतावनी दे दी कि अतिक्रमण हटने नही देंगे. अतिक्रमणकारियों के मकान उनकी लाश पर ही टूटेंगे. सत्तापक्ष के विधायक की धमकी के बाद प्रशासन को उल्टे पांव लौटना पड़ा.

विधायक के विरोध के बाद प्रशासन चाहकर भी हाईकोर्ट के आदेश का पालन नही करा पाया. इस पर बीजेपी सांसद विवेक शेजवलकर ने कहा कि एमपी में कांग्रेस सरकार की स्थित हास्यास्पद है. अतिक्रमण हटाने के खिलाफ विधायक और मंत्री ही धरने पर बैठ रहे हैं. सांसद शेजवलकर ने कहा कि प्रशासन को कानून की हिफाजत के लिए विधायक के खिलाफ कोर्ट की अवमानना का केस दर्ज करना चाहिए. बीजेपी की मांग पर कैबिनेट मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर ने कहा कि न्यायालय के फैसले का सम्मान करते हैं. उनके विधायक ने संविधान के तहत बात कही है. हालांकि, कोर्ट की अवमानना के सवाल पर प्रद्युम्न सिंह ने किनारा कर लिया.

बता दें कि ये पहला मौका नही है, जब माननीय की मनमानी का शिकार प्रशासन को होना पड़ा है. लेकिन, अब तो विधायक जैसे जनप्रतिनिधि हाईकोर्ट के खिलाफ भी खड़े हो रहे हैं. बावजूद इसके प्रशासन मौन है, तो विपक्ष कार्रवाई की मांग कर रहा है. सत्ता पक्ष के मंत्री इस सवाल से पल्ला झाड़ रहे हैं.