फैसला हटकेः तलाक के लिए पहुंचे थे, कोर्ट ने कहा- जाओ पहले करवा चौथ मनाओ, जानें क्या है मामला

महिला ने कहा शादी के दौरान वह लॉ कर रही थी. शादी बाद पति और ससुराल वालों ने मेरी पढ़ाई पर रोक लगा दी. मैं अपना कैरियर बनाना चाहती हूं, जबकि पति नहीं चाहता कि वह घर से बाहर निकले. इसे लेकर लगातार विवाद बढ़ता गया मारपीट की नौबत भी आ गई.

फैसला हटकेः तलाक के लिए पहुंचे थे, कोर्ट ने कहा- जाओ पहले करवा चौथ मनाओ, जानें क्या है मामला
सांकेतिक तस्वीर

भोपाल: टूटे हुए रिश्तों को कई बार त्योहार संजीवनी दे देते है, और यही मौका होता है जब रिश्तों के गिले-शिकवे दूर कर सिर्फ खुशियों की बातें होती है. ऐसा ही एक मामला फैमिली कोर्ट में देखने को मिला. यहां पत्नी का आरोप था कि उसने शादी इसी शर्त पर की थी कि वह पढ़ाई नहीं छोड़ेगी, शादी से पहले पति ने तो हां कर दी लेकिन शादी के बाद में पढ़ाई बंद करा दी. इसी बात पर पति-पत्नी के बीच विवाद इतना बड़ा कि मामला तलाक तक पहुंच गया.

आतिशबाजी पर आक्रोश: पटाखे बेचने पर मिली दुकानदारों को धमकी, प्रदूषण नहीं ये है वजह

शादी के बाद भी पढ़ाई नौकरी करने कहा था
महिला ने आरोप लगाया था कि उसकी शादी के लिए ससुराल वाले रिश्ता लेकर आए थे, लेकिन उस समय वह पढ़ाई कर रही थी. पति रायसेन में नगरपालिका में क्लर्क है. वह 12वीं पास है, जबकि मैंने ग्रेजुएशन किया है. मेरे माता-पिता ने 12वीं पास लड़के से शादी इसलिए कर दी, क्योंकि वह सरकारी नौकरी करता है. शादी तय होते ही मैंने कह दिया था कि मैं आगे पढ़ाई और नौकरी करूंगी, जिसे सबने स्वीकार किया था.

मारपीट तक की नौबत आयी
महिला ने कहा शादी के दौरान वह लॉ कर रही थी. शादी बाद पति और ससुराल वालों ने मेरी पढ़ाई पर रोक लगा दी. मैं अपना कैरियर बनाना चाहती हूं, जबकि पति नहीं चाहता कि वह घर से बाहर निकले. इसे लेकर लगातार विवाद बढ़ता गया मारपीट की नौबत भी आ गई. काउंसलिंग के दौरान महिला की सास ने कहा कि बेटे की शादी को 3 साल हो रहे है. बहू ने केवल पहला करवा चौथ ससुराल में किया था. उसके बाद से ही मायके में रह रही है.

पहले करवा चौथ मनाकर आओ
कोर्ट ने मामले को काउंसलिंग के लिए भेजा और दोनों पक्षों को बुलाया. काउंसलिंग में महिला की सास और पति भी पहुंचे थे. दोनों ने भी बहू पर कई आरोप लगाए. काउंसलर नुरुनिशा खान ने महिला को समझाया और मामले की जानकारी जज को दी. जिसपर कोर्ट ने महिला से कहा कि पहले वह ससुराल जाकर करवा चौथ मनाकर आए, फिर अपनी रिपोर्ट कोर्ट को बनाकर देना. जिसके बाद महिला काउंसलिंग सभागार से ही मंगलवार को पति और सास के साथ चली गई.

अर्नब की गिरफ्तारी पर भड़के शिवराज, कहा- महाराष्ट्र सरकार ने की लोकतंत्र की हत्या, कांग्रेस के इशारे पर हुई कार्रवाई

सास, बहू व पति हुए भावुक
काउंसलर नुरुनिशा खान ने बताया कि महिला की सास नहीं चाहतीं कि बेटे का परिवार टूटे. सास और पति ने यह स्वीकार किया कि शादी के पहले उन्होंने पढ़ने और नौकरी करने की बात पर हामी भरी थी और उनका मानना था कि बहू लॉ की पढ़ाई करने के बाद अपनी घर गृहस्थी संभाले लेकिन बहू ने आगे पढ़ने और नौकरी करने की जिद पकड़ ली. काउंसलर ने कहा कि वह लगातार बहू को मनाती रही. कई बार तीनों पुरानी बातों को लेकर भावुक भी हो गए. जिसे देखकर ऐसा लगा कि परिवार फिर बस सकता है.

WATCH LIVE TV