New Guidelines: इंदौर में शादी समारोह को लेकर नए निर्देश जारी, होटल-बार भी 11 बजे तक खुलेंगे

प्रोटोकॉल को लेकर और कोरोना की संभावित तीसरी लहर के खतरे को देखते हुए सोमवार को जिले के होटल और मैरिज गार्डन संचालकों के साथ रविंद्र नाट्य गृह में बैठक की.

New Guidelines: इंदौर में शादी समारोह को लेकर नए निर्देश जारी, होटल-बार भी 11 बजे तक खुलेंगे

इंदौरः कोरोना संक्रमण के नियंत्रण में आने के बाद अब इंदौर प्रशासन ने छूट का दायरा और बढ़ाने का फैसला किया है. इसके तहत जिले में होटल, बार, रेस्तरां रात 11 बजे तक खुल सकेंगे. अभी तक इन्हें रात 10 बजे तक ही खोलने की अनुमति थी. हालांकि शादी समारोह को लेकर सख्ती बढ़ाई गई है. बता दें कि शादी समारोह में 50 लोगों के शामिल होने की अनुमति है लेकिन अब प्रशासन ने साफ कहा है कि मैरिज गार्डन में सिर्फ 50 लोगों को ही एंट्री दी जाए और इसमें कोई लापरवाही नहीं होनी चाहिए. 

इंदौर के कलेक्टर मनीष सिंह ने कोविड प्रोटोकॉल को लेकर और कोरोना की संभावित तीसरी लहर के खतरे को देखते हुए सोमवार को जिले के होटल और मैरिज गार्डन संचालकों के साथ रविंद्र नाट्य गृह में बैठक की. इस दौरान कलेक्टर ने कहा कि शहर की स्थिति फिर से खराब ना हो, यह सभी की जवाबदारी है. संक्रमण फिर से ना फैले, ये सभी की जवाबदारी है. बता दें कि ऐसा देखा जा रहा है कि शादी समारोह में तय सीमा से ज्यादा लोग शामिल हो रहे हैं और इस दौरान लोगों द्वारा मास्क, सोशल डिस्टेंसिंग जैसी कोरोना गाइडलाइंस का भी पालन नहीं किया जा रहा है. 

वीडियो रिकॉर्डिंग थाने में होगी जमा
कलेक्टर ने निर्देश दिए हैं कि शादी समारोह में 50 से ज्यादा लोग बिल्कुल भी शामिल ना हों. 
शादी समारोह की वीडियो रिकॉर्डिंग की जाए और उसे पैन ड्राइव के माध्यम से थाने में जमा कराया जाए. 
मैरिज गार्डन और होटल संचालक समारोह में शामिल होने वाले लोगों को कोरोना गाइडलाइंस के प्रति जागरुक करें. 
साथ ही आयोजन स्थल के बाहर प्रवेश द्वार पर एक 4x3 का फ्लैक्स बोर्ड भी संचालकों को लगवाना होगा, जिस पर कोरोना के लेकर चेतावनी लिखी गई होगी.

समारोह में 50 लोग ही शामिल हों, इसकी जिम्मेदारी मैरिज गार्डन, होटल संचालकों की होगी. अगर किसी ने इस नियम का उल्लंघन किया तो उसके खिलाफ वैधानिक कार्रवाई की जाएगी.

समारोह स्थल में भोजन सामग्रियों के बीच कम से कम दो गज की दूरी रखनी जरूरी होगी.  

बता दें कि कोरोना की तीसरी लहर की आशंका जाहिर की जा रही है. यही वजह है कि प्रशासन लापरवाही पर सख्ती बरत रहा है और नियमों का पालन सुनिश्चित कराने की कोशिश कर रहा है.