IT की छापेमारी में 753 करोड़ के अवैध ट्रांजेक्शन का फर्जीवाड़ा आया सामने, 20 करोड़ नकद बरामद

इनकम टैक्स को छापेमारी में मध्यप्रदेश से 14.6 करोड़ रुपये नकद मिले और 281 करोड़ रुपये के अवैध लेन-देन की जानकारी मिली. विभाग को इस बात की भी जानकारी मिली की 20 करोड़ रुपये दिल्ली में तुगलक रोड पर बड़े नेता के घर से पार्टी मुख्यालय भेजे गए हैं. 

IT की छापेमारी में 753 करोड़ के अवैध ट्रांजेक्शन का फर्जीवाड़ा आया सामने, 20 करोड़ नकद बरामद
गुप्त जानकारी के आधार पर डाली गई थी रेड

नई दिल्लीः आयकर विभाग की चार राज्यों में छापेमारी के बाद करीब 753 करोड़ की अवैध ट्रांजेक्शन का पता चला है. इनकम टैक्स को पता चला था की चुनावों के दौरान भारी तादाद में पैसों का लेन देन और चुनावों को मैनेज करने की कोशिश की जा रही है. इसी सुचना पर इनकम टैक्स  ने दिल्ली, गोवा, भोपाल और इंदौर में छापेमारी की. इनकम टैक्स को छापेमारी में मध्यप्रदेश से 14.6 करोड़ रुपये नकद मिले और 281 करोड़ रुपये के अवैध लेन-देन की जानकारी मिली. विभाग को इस बात की भी जानकारी मिली की 20 करोड़ रुपये दिल्ली में तुगलक रोड पर बड़े नेता के घर से पार्टी मुख्यालय भेजे गए हैं. 

CM कमलनाथ के OSD के घर IT की छापेमारी से गरमाई सियासत, कांग्रेस ने केंद्र सरकार पर लगाए आरोप

इसी के साथ इनकम टैक्स को दिल्ली एनसीआर में इसी बड़े नेता के करीबी के रिश्तेदार के पास से 230 करोड़ रुपये के अवैध लेन देन का पता चला और 242 करोड़ रुपये फर्जी बिलों के जरिये इधर-उधर किये गये. साथ ही विभाग को 80 कंपनियों का पता चला जो टैक्स हेवन में खोली गई थी ताकी उनके जरिए काला धन सफेद किया जा सके. 

मध्‍य प्रदेश में बंगाल जैसे हालात, कमलनाथ के OSD के घर छापेमारी पर पुलिस और CRPF आमने-सामने

इन छापों के बाद राजनीतिक दलों में हडकंप मच गया था. कांग्रेस पार्टी के नेता अहमद पटेल के चीफ अकाउटेंट मोइन के यहां भी इनकम टैक्स ने छापेमारी की. विभाग को शक था कि मोइन 20 करोड़ रुपये इंदौर से दिल्ली लाया है, अहमद पटेल की तस्वीर भी सामने आई है जिसमें वो मोइन के घर बैठे हुए दिखाई दे रहे है. अहमद पटेल ने अपनी सफाई में कहा कि मोइन उनका अकाउंटेंट है और जब वो दफ्तर नहीं आया तो वो उसका हाल चाल पूछने गए थे.

विपक्षी दलों के यहां छापेमारी से राजनीति का कोई लेना-देना नहीं, कार्रवाई पूरी तरह से निष्पक्ष: राजस्व विभाग

छापों के बाद चुनाव आयोग ने CBDT के चेयरमैन पी सी मोदी और वित्त सचिव अजय भूषण पांडेय को जानकारी के लिए बुलाया था. जानकारी के मुताबिक दोनों ने चुनाव आयोग को बताया कि रेड एक गुप्त जानकारी के आधार पर डाली गयी थी और इसमें एक बड़े रैकेट का पता चला है जो करोड़ों की ट्रांजेक्शन में शामिल है.