भोपाल में निष्कासन वापसी की शर्त पर जूडा ने खत्म की हड़ताल

अपर मुख्य सचिव चिकित्सा शिक्षा राधेश्याम जुलानिया व जीएमसी प्रबंधन की मौजूदगी में हुई बैठक में जूडा ने निष्कासित डॉक्टर्स को वापस लेने की मांग पर हड़ताल खत्म कर दी है.

भोपाल में निष्कासन वापसी की शर्त पर जूडा ने खत्म की हड़ताल
पांच दिनों बाद भोपाल में जूडा की हड़ताल खत्म

नई दिल्लीः मध्यप्रदेश में पिछले 5 दिनों से चल रही जूडा की हड़ताल से प्रदेश के कई बड़े शहरों में स्वास्थ्य सेवाएं ठप्प पड़ी थीं. कई दिनों से मरीजों को भारी परेशानियां झेलनी पड़ रही थीं, लेकिन अब जाकर प्रदेश के लिए राहत भरी खबर मिली है. राजधानी भोपाल में अपर मुख्य सचिव चिकित्सा शिक्षा राधेश्याम जुलानिया व जीएमसी प्रबंधन की मौजूदगी में हुई बैठक में जूडा ने निष्कासित डॉक्टर्स को वापस लेने की मांग पर हड़ताल खत्म कर दी है. चार इमली स्थित जल संसाधन विभाग के ऑफिस में हुई बैठक में जूडा ने लिखित माफीनामा सौंपकर हड़ताल खत्म कर दी. जीएमसी के मुताबिक जूडा ने निष्कासित डॉक्टर्स को वापस लेने की मांग पर ही हड़ताल खत्म की है.

इंदौर में हड़ताल अब भी जारी
जहां एक ओर भोपाल में डॉक्टर्स ने हड़ताल खत्म करने का फैसला लिया है तो वहीं दूसरी ओर इंदौर में जूनियर डॉक्टर्स की हड़ताल अब भी जारी है. इंदौर के जूडा प्रवक्ता ने बताया कि इंदौर में अब भी हड़ताल जारी है और तब तक जारी रहेगी जब तक हमारी मांगें नहीं मानी जाएंगी. बता दें जूडा ने यह हड़ताल उनकी पांच सूत्रीय मांगों को लेकर शुरू की थी. जिनमें स्टायपेंड बढाने, यूनिवर्सिटी फीस कम करने, अस्पतालों में सुरक्षा बढ़ाने जैसी मांगे मुख्य थी.

प्रदेश भर में स्वास्थ्य व्यवस्थाएं प्रभावित
बता दें इंदौर जैसे बड़े शहरों में 5 दिनों से चल रही इस हड़ताल से प्रदेश की स्वास्थ्य सेवाओं पर काफी असर पड़ा है. प्रदेश में मरीजों को न तो समय पर इलाज मिल पा रहा है और न ही सही देख-रेख. जिसके चलते अस्पताल प्रबंधन भी मरीजों को बिना इलाज घर भेजने को मजबूर है. वहीं स्टाफ की कमी के चलते प्रदेश में 5 दिनों में ही सैकड़ों ऑपरेशन टल गए. इनमें से कई गंभीर बीमारी के मरीज भी शामिल थे.

329 डॉक्टर्स को निष्कासन का नोटिस भेज चुका है हाई कोर्ट
वहीं भोपाल में जूडा की हड़ताल खत्म होने के बाद शासन ने शुक्रवार शाम को ही स्टेटस रिपोर्ट हाईकोर्ट को सौंप दी थी. बता दें दो दिन पहले ही हाईकोर्ट ने जूडा की हड़ताल को अवैध घोषित करते हुए हड़ताल पर एस्मा लगाया था और अब हाईकोर्ट जूडा पर अवमानना की कार्यवाई भी कर सकता है. हाईकोर्ट ने भोपाल के गांधी मेडिकल कॉलेज के 329 डॉक्टर्स को निष्कासन का नोटिस भी दिया था.