close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

GMC के जूनियर डॉक्टर्स ने HOD, टीचर्स से मांगी माफी, 'गुरु-शिष्य की परंपरा टूटी माफ करें'

जूनियर डॉक्टर (Junior Doctor) की हड़ताल (Strike) के बाद प्रबंधन ने दबाव में आकर तत्कालीन डीन डॉक्टर अरुणा कुमार को हटा दिया था. उनकी जगह पर डॉक्टर टीएन दुबे को प्रभारी डीन बनाया गया था, लेकिन अब प्रभारी डीन टीएन दुबे भी अवकाश पर चले गए है. अब प्रबंधन ने डॉक्टर एना एलेक्स को प्रभारी डीन नियुक्त किया है.

GMC के जूनियर डॉक्टर्स ने HOD, टीचर्स से मांगी माफी, 'गुरु-शिष्य की परंपरा टूटी माफ करें'
फाइल फोटो

भोपाल: भोपाल (Bhopal) का गांधी मेडिकल कॉलेज (Gandhi Medical College) इन दिनों जूनियर डॉक्टर एसोसिएशन (Junior Doctors Association) और टीचिंग स्टाफ के टकराव के बाद अब  जूनियर डॉक्टर्स ने शिक्षकों और HOD से माफी मांगी है. जूनियर डॉक्टर एसोसिएशन के अध्यक्ष डॉक्टर संचेत सक्सेना ने पत्र लिखा है, जिसमें पिछले दिनों हुए प्रदर्शन को लेकर बिना शर्त माफी मांगी है.

इस पत्र में लिखा गया है कि आंदोलन के दौरान जाने-अनजाने में गुरु-शिष्य की परंपरा टूटी हो तो सभी जूनियर डॉक्टर HOD और शिक्षकों से बिना शर्त माफी मांगते है. जूनियर डॉक्टर्स ने इस आंदोलन को सिर्फ पीड़िता के नजरिए से देखने का अनुरोध किया है. 

जूनियर डॉक्टर (Junior Doctor) की हड़ताल (Strike) के बाद प्रबंधन ने दबाव में आकर तत्कालीन डीन डॉक्टर अरुणा कुमार को हटा दिया था. उनकी जगह पर डॉक्टर टीएन दुबे को प्रभारी डीन बनाया गया था, लेकिन अब प्रभारी डीन टीएन दुबे भी अवकाश पर चले गए है. अब प्रबंधन ने डॉक्टर एना एलेक्स को प्रभारी डीन नियुक्त किया है.

आपको बता दें कि गांधी मेडिकल कॉलेज के जूनियर डॉक्टर्स ने तीन तीन की हड़ताल के बाद तब कामकाज शुरू किया था जब कॉलेज की डीन अरुणा कुमार के इस्तीफा दे दिया था. डीन अरुणा कुमार की जगह डॉक्टर टीएन दुबे को प्रभारी डीन बनाया गया था. 

लाइव टीवी देखें

दरअसल, मेडिकल कॉलेज के गर्ल्स हॉस्टल में छेड़छाड़ और लूट की घटना के बाद से ही जूनियर डॉक्टर्स हड़ताल कर रहे थे. सुरक्षा की मांग के साथ-साथ जूनियर डॉक्टर्स डीन को हटाने की मांग पर अड़े हुए थे.