close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बाढ़ के हालात पर बोले ज्योतिरादित्य सिंधिया, 'प्राकृतिक आपदा जैसे मुद्दों पर नहीं होनी चाहिए राजनीति'

प्रदेश के कई जिलों में आई बाढ़ के हालातों पर बोलते हुए कांग्रेस नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया कहा कि प्राकृतिक आपदा जैसे मुद्दों पर राजनीति नहीं होनी चाहिए. 

बाढ़ के हालात पर बोले ज्योतिरादित्य सिंधिया, 'प्राकृतिक आपदा जैसे मुद्दों पर नहीं होनी चाहिए राजनीति'
ज्योतिरादित्य सिंधिया (फोटो साभारः @JM_Scindia)

नई दिल्ली: मध्य प्रदेश के कई शहरों में बारिश मुसीबत बनकर बरस रही है. इसी के साथ कई जिलों में बाढ़ भी कहर बनकर लोगों को परेशान कर रही है. आज मंदसौर दौरे पर पहुंचे पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने लोगों के बीच पहुंचकर कहा कि वह विरोध नहीं सहयोग के लिए आए हैं और प्रशासन का पूरा साथ देंगे. इतना ही नहीं इसके बाद कांग्रेस नेता अजय सिंह ने पलटवार करते हुए कहा कि शिवराज सिंह भूल नहीं पा रहे हैं कि अब वह प्रदेश के मुख्यमंत्री नहीं हैं. इन सब बयानबाजी के बीच कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि प्राकृतिक आपदा जैसे मुद्दों पर राजनीति नहीं होनी चाहिए. 

प्रदेश के कई जिलों में आई बाढ़ के हालातों पर बोलते हुए कांग्रेस नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया कहा कि प्राकृतिक आपदा जैसे मुद्दों पर राजनीति नहीं होनी चाहिए. सरकार की पहली प्राथमिकता लोगों को सुरक्षित निकालना और उन तक राहत सामग्री पहुंचाई जाना है. शिवराज सिंह क्या कहते हैं इससे कांग्रेस को कोई फर्क नहीं पड़ता है, जनता सब कुछ जानती है. साथ ही उन्होंने कहा प्रदेश सरकार ने केंद्र सरकार से जो 500 करोड़ रुपये की मांग की है. वह राशि के सरकार को तत्काल भेजनी चाहिए. 

कांग्रेस नेता का शिवराज सिंह पर पलटवार, बोले- 'BJP नेता भूल नहीं पा रहे कि अब वो मुख्यमंत्री नहीं'

बता दें कि कांग्रेस के वरिष्ठ मंत्री अजय सिंह ने कहा कि शिवराज को अपने घर पर ज्यादा देर रुकने की इजाजत नहीं है. मुख्यमंत्री रहते हुए भी वह ज्यादा देर घर पर नहीं रुक पाते थे. अजय सिंह ने आगे कहा कि मंत्री-मुख्यमंत्री बाढ़ पीड़ितों के बीच इसलिए नहीं गए हैं क्योंकि कभी-कभी वीआईपी लोगों के जाने से स्थिति और बिगड़ जाती है. प्रशासन को पीड़ितों की मदद के निर्देश दिए गए हैं और हरसंभव प्रयास जारी हैं. केंद्र सरकार द्वारा मध्यप्रदेश को दी जाने वाली राशि कम किए जाने पर अजय सिंह ने कहा कि इससे पता चलता है कि उनकी नीयत साफ नहीं है.