close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

सिंधिया ने 1 महीने में CM कमलनाथ को लिखे 4 पत्र, कार्यकर्ताओं और जनता की परेशानियों से कराया रूबरू

सिंधिया ने इस दौरान भिंड में बच्चों की बेहतर शिक्षा के लिए एक सैनिक स्कूल खुलवाने का प्रयार करने और एक चिकित्सा महाविद्यालय स्थापित किए जाने की मांग को लेकर 12 अक्टूबर को अलग-अलग दो पत्र मुख्यमंत्री कमललाथ को लिखे थे.

सिंधिया ने 1 महीने में CM कमलनाथ को लिखे 4 पत्र, कार्यकर्ताओं और जनता की परेशानियों से कराया रूबरू

भोपाल: कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और महासचिव ज्योतिरादित्य सिंधिया का सियासत करने का अंदाज बदल रहा है. एक तरफ वह कार्यकर्ताओं के बीच अपनी ही सरकार की खामियां स्वीकारने से नहीं हिचक रहे तो दूसरी ओर जनता की समस्याओं और कार्यकर्ताओं की अपेक्षाओं को पूरा करने के लिए वह मुख्यमंत्री कमलनाथ को लगातार खत लिख रहे हैं. इस महीने अब तक वह चार खत मुख्यमंत्री को लिख चुके हैं. सिंधिया एक सप्ताह ग्वालियर-चंबल संभाग के दौरे पर रहे. इस दौरान उन्होंने कार्यकर्ताओं से सीधे संवाद किया और परेशान व पीड़ित वर्ग से भी मुलाकात की. उन्होंने इस प्रवास के दौरान यह जाहिर कर दिया कि सरकार भले ही उनकी हो, मगर क्षेत्रीय जनता की समस्याओं के निपटारे के लिए वह किसी भी स्तर पर जाने से नहीं हिचकेंगे.

सिंधिया ने इस दौरान भिंड में बच्चों की बेहतर शिक्षा के लिए एक सैनिक स्कूल खुलवाने का प्रयार करने और एक चिकित्सा महाविद्यालय स्थापित किए जाने की मांग को लेकर 12 अक्टूबर को अलग-अलग दो पत्र मुख्यमंत्री कमललाथ को लिखे थे. सिंधिया ने इसके बाद 14 अक्टूबर को तीसरा पत्र शिवपुरी में खुले में शौच करने पर दो दलित बच्चों की डंडों से पीटकर की गई हत्या के मामले में मुख्यमंत्री को लिखा था. पत्र में उन्होंने कहा कि पीड़ित परिवार निर्धन है, लिहाजा उसे 10-10 बीघा जमीन का पट्टा दिया जाए, साथ ही 50-50 लाख रुपये की आर्थिक सहायता दी जाए.

देखें LIVE TV

कांग्रेस नेता सिंधिया ने मुख्यमंत्री को चौथा खत 15 अक्टूबर को लिखा, जिसमें शिवपुरी जिले के विधायकों और पार्टी कार्यकर्ताओं द्वारा बताई गई समस्याओं का जिक्र है. पत्र में उन्होंने कहा है, "जिला पंचायत की कई योजनाएं बंद होने से विकास कार्य रुके हुए हैं. करैरा के किसानों की फसलें अतिवृष्टि से बर्बाद हो गई हैं. मवेशी खेतों में घूम रहे हैं, पार्टी के वचन-पत्र में हर ग्राम पंचायत में गौशाला खोलने का वचन दिया गया है. इसे प्राथमिकता से पूरा किया जाए." सिंधिया के इन पत्रों पर सरकार क्या कुछ कार्रवाई कर रही है, फिलहाल इस बारे में बताने के लिए कोई तैयार नहीं है, लेकिन पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सिंधिया के बयानों और पत्रों पर तंज कसा है.

नाबालिग लड़कियों के लिए MP के शहर असुरक्षित, ह्यूमन ट्रैफिकिंग के आंकड़ों में हुआ खुलासा

यहीं पर सिंधिया के करीबी और मध्य प्रदेश चुनाव अभियान समिति के संयोजक मनीष राजपूत का कहना है, "ग्वालियर चंबल संभाग की जनता ने सिंधिया के आह्वान पर कांग्रेस को विधानसभा चुनाव में भारी जीत दिलाई थी, यहां 35 में से 26 सीटों पर कांग्रेस जीती. लिहाजा सिंधिया का दायित्व है कि वह यहां की जनता की समस्याओं की ओर सरकार का ध्यान आकृष्ट करें. इसीलिए उन्होंने जनता की समस्याओं को लेकर मुख्यमंत्री को पत्र लिखे हैं."

MP: भिंड में लगे पोस्टर्स में सिंधिया के साथ नजर आए PM मोदी और शाह, कांग्रेस में मचा बवाल

इन पत्रों के अलावा, सिंधिया बयानबाजी से भी पीछे नहीं रहे हैं. उन्होंने भिंड में कार्यकर्ताओं के साथ बैठक में किसान कर्जमाफी पर सवाल उठाए थे और कहा था "किसानों की कृषि ऋण माफी समग्रता से नहीं की गई है. केवल 50,000 रुपये तक का ऋण माफ किया गया है. जबकि हमने दो लाख रुपये तक का ऋण माफ करने के लिए कहा था." उन्होंने मुरैना में कार्यकर्ताओं संग बैठक में तबादलों पर भी सवाल उठाए थे.

(इनपुटः IANS)