राहुल गांधी को लेकर कैलाश विजयवर्गीय ने जो कहा, आज तक किसी नेता ने नहीं बोला होगा ऐसा

इस दौरान उन्होंने पीएम मोदी को लेकर कहा कि उनकी नेतृत्व क्षमता के कारण देश की जनता ने उन्हें पीएम बनाया है. उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने सबसे ज्यादा समय देश में राज किया. अलग-अलग दलों को अपने साथ मिलाया, लेकिन मोदी जी ने देश के हित में निर्णय लिया कभी कुर्सी को प्राथमिकता नहीं दी.

राहुल गांधी को लेकर कैलाश विजयवर्गीय ने जो कहा, आज तक किसी नेता ने नहीं बोला होगा ऐसा
फाइल फोटो.

इंदौर: नरेंद्र मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल के एक साल पूरा होने पर कैलाश विजयवर्गीय (Kailash Vijayvargiya) ने आज इंदौर में प्रेस वार्ता की. इस दौरान उन्होंने मोदी सरकार के 1 वर्ष के कार्यकाल का जिक्र किया और कांग्रेस पर हमला बोला. पत्रकारों के सवाल का जवाब देते हुए उन्होंने कहा कि राहुल गांधी का कबाड़ा हो गया है. सबको समझ आ गया है कि राहुल गांधी पीएम बनने लायक नहीं हैं.

इस दौरान उन्होंने पीएम मोदी को लेकर कहा कि उनकी नेतृत्व क्षमता के कारण देश की जनता ने उन्हें पीएम बनाया है. उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने सबसे ज्यादा समय देश में राज किया. अलग-अलग दलों को अपने साथ मिलाया, लेकिन मोदी जी ने देश के हित में निर्णय लिया कभी कुर्सी को प्राथमिकता नहीं दी.

कोरोना के बीच अब MP में मंडराया Nisarga का खतरा, तूफान की जद में 15 जिले

कैलाश विजयवर्गीय ने कहा कि इस देश की अखंडता ओर एकता के लिए पहला बलिदान श्यामा प्रसाद मुखर्जी ने दिया. इंदौर की शाहबानो प्रकरण को लेकर उन्होंने कहा कि वह देश की सभी अदालत में गई. सभी अदालत में उन्हें न्याय मिला. उस वक्त राजीव गांधी के देश की संसद में 400 से ज्यादा सांसद थे. वोट की राजनीति के चलते सुप्रीम कोर्ट के निर्णय को लोकसभा में बदल दिया गया था. कैलाश विजयवर्गीय ने पाकिस्तान में हिंदुओं की घटती आबादी का भी जिक्र किया. उन्होंने कहा कि जो लोग पाकिस्तान से भागकर हिंदुस्तान आये. उन्हें नागरिकता नहीं मिली. उन्होंने कहा कि इंदौर में सिंधी समाज के हजारों लोग आए डॉक्टर बने पर नागरिकता नहीं मिली.  इसलिए मोदी सरकार ने क्रांतिकारी फैसला लेते हुए सबको नागरिकता देने का फैसला लिया.

विजयवर्गीय ने कांग्रेस सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि वोट की राजनीति के लिए पूर्व की सरकारों ने कश्मीरी पंडितों और सिखों की चिंता नहीं की. लेकिन आज मोदी सरकार उनकी चिंता कर रही है. उन्होंने कहा कि मुझे मोदी सरकार पर गर्व है. आज़ादी के बाद मोदी जी ने सभी इस्लामिक राष्ट्रों पाकिस्तान को छोड़कर सबको अपनी तरफ किया है. ये सब मोदी सरकार के रणनीतियों का कमाल है.

उन्होंने कहा कि मुझे हंसी आती है जब राजनेता कहते हैं कि लॉकडाउन  से कुछ नहीं होगा.  लेकिन मैं आपको बता दूं कि हमारे पास स्वास्थ्य सेवाएं उनती बेहतर नहीं हैं. अगर सरकार ने लॉकडाउन का फैसला नहीं लिया होता तो आज भारत में कोरोना के केस वर्तमान से कही और ज्यादा होते.

भोपाल में एक सेक्स रेकैट का पर्दाफाश, 5 युवतियों समेत 2 पुरुष गिरफ्तार

कैलाश विजयवर्गीय ने ममता बनर्जी को गैरजिम्मेदार सीएम बताया. उन्होंने कहा कि हमारे देश में जितने भी सीएम हैं उनमें बंगाल की सीएम सबसे ज्यादा गैरजिम्मेदार हैं. ममता बनर्जी की केंद्र सरकार राहत राशि मांग को लेकर कैलाश विजयवर्गीय ने कहा कि वो खुद सरकार है वो खुद अपने खजाने से पैसे दें! ममता सिर्फ और सिर्फ पॉलिटिकल गेम खेल रही हैं. विजयवर्गीय ने कहा कि वहां 30 फीसदी अल्पसंख्यक है. इसलिए धार्मिक स्थल खोलने का फैसला लिया है. दुर्भाग्य है कि ममता वोट बैंक की चिंता में प्रदेश की चिंता नही कर रही है.

इसके अलावा उन्होंने मध्य प्रदेश की पूर्व सरकार पर भी हमला बोला. उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार का आदेश जारी होने के बाद तत्कालीन मध्य प्रदेश की कमलनाथ सरकार उचित कदम उठा लेती तो इंदोर में इतना नुकसान नही होता.

ममता बनर्जी की केंद्र सरकार राहत राशि मांग को लेकर कैलाश विजयवर्गीय ने कहा कि वो खुद सरकार है वो खुद अपने खजाने से पैसे दे! ममता सिर्फ और सिर्फ पॉलिटिकल गेम खेल रही हैं. विजयवर्गीय ने कहा कि वहां 30 फीसदी अल्पसंख्यक है. इसलिए धार्मिक स्थल खोलने का फैसला लिया है. दुर्भाग्य है कि ममता वोट बैंक की चिंता में प्रदेश की चिंता नही कर रही है.

MP: उपचुनाव को लेकर कांग्रेस-BJP में वार-पलटवार, नरोत्तम मिश्रा बोले- फेल हो गया कांग्रेस का ये 'चाणक्य'

विजयवर्गीय ने कहा कि मेरे पास बंगाल के एक सांसद का फोन आया उन्होंने बताया कि 12 दिन से 14 हजार सैंपल्स कोरोना जांच के लिए हैं. उन्होंने कहा कि राज्य में कोरोना के बढ़ते मामले के बावजूद भी ममता बनर्जी टेस्टिंग क्षमता नहीं बढ़ा रही हैं. बंगाल में स्वास्थ्य व्यवस्था ठप्प हो गयी है. 

इसके अलावा उन्होंने मध्य प्रदेश की पूर्व सरकार पर भी हमला बोला. उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार का आदेश जारी होने के बाद तत्कालीन मध्य प्रदेश की कमलनाथ सरकार उचित कदम उठा लेती इंदोर में इतना नुकसान नही होता. लेकिन इंदोर में कोरोना को लेकर जब बैठक होनी चाहिए थी तब आइफा को लेकर  बैठक चल रही थी. 

Watch Live TV-