शिवराज मंत्रिमंडल को कमलनाथ ने बताया मजाक, पूछा- कैसे और कितने दिन चलाएंगे सरकार?

मंगलवार को सीरीज ऑफ ट्वीट करते हुए उन्होंने लिखा, ''कोरोना महामारी के संकट के इस दौर में आज मंत्रिमंडल गठन से बीजेपी ने प्रदेश की 7.5 करोड़ जनता के साथ मजाक किया है. 

शिवराज मंत्रिमंडल को कमलनाथ ने बताया मजाक, पूछा- कैसे और कितने दिन चलाएंगे सरकार?

भोपाल: मध्य प्रदेश पर गहराए कोरोना संकट के बीच शिवराज मंत्रिमंडल के गठन पर पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने प्रतिक्रिया देते हुए इसे जनता के साथ मजाक बताया. सिर्फ 5 मंत्री बनाए जाने को लेकर भी सवाल उठाते हुए उन्होंने इसे भारतीय जनता पार्टी में चल रहा आंतरिक संघर्ष बताया.

''7.5 करोड़ जनता से मजाक''
मंगलवार को सीरीज ऑफ ट्वीट करते हुए उन्होंने लिखा, ''कोरोना महामारी के संकट के इस दौर में आज मंत्रिमंडल गठन से बीजेपी ने प्रदेश की 7.5 करोड़ जनता के साथ मजाक किया है. एक महीने बाद मंत्रिमंडल का गठन वो भी सिर्फ 5 मंत्री, कोई विभाग का बंटवारा नहीं? इसी से समझा जा सकता है कि बीजेपी में कितना अंतर्द्वंद चल रहा है, कितना आंतरिक संघर्ष चल रहा है.''

ये भी पढ़ें: शिवराज कैबिनेट की पहली बैठक में पार्षदों, मेयर, नपा अध्यक्ष के लिए खुशखबरी- कार्यकाल एक साल बढ़ाया

''सरकार कैसे और कितने दिन चलाएंगे?''
अपनों से विश्वासघात का शिकार हुए कमलनाथ ने बीजेपी को आड़े हाथ लेते हुए लिखा, ''प्रलोभन का खेल खेलकर इन्होंने कांग्रेस की स्थिर सरकार तो गिरा दी, अपनी सरकार बना ली, लेकिन यह सरकार चलाएंगे कैसे? कितने दिन चलायेंगे? आगे-आगे देखिये? इस मंत्रिमंडल के गठन से ही इनके संघर्ष की वास्तविकता सामने आ चुकी है.''

मंत्रियों के चयन पर साधा निशाना
मंत्रियों के चयन को लेकर भी कमलनाथ ने भाजपा को आड़े हाथ लिया. उन्होंने कहा, ''आज के मंत्रिमंडल गठन में ही बीजेपी के कई जमीनी संघर्ष करने वाले अनुभवी, ईमानदार, योग्य, संकट के इस दौर में जिनके अनुभव की आज जरूरत थी, वो सब नदारद और जो संकट में भाग खड़े हुए वो अंदर.''

ये भी पढ़ें: शिवराज सरकार में सिंधिया खेमे के गोविंद सिंह राजपूत को मंत्री पद, जानिए उनका सियासी सफर

 

ज्योतिरादित्य सिंधिया ने दी बधाई
उधर, कांग्रेस छोड़ बीजेपी का दामन थामने वाले कद्दावर नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया ने शिवराज मंत्रिमंडल के गठन को लेकर ट्वीट किया और बधाई दी. सिंधिया ने आश्वस्त किया कि कोरोना के खिलाफ लड़ाई में वो साथ खड़े हैं.

ये भी पढ़ें: चार बार विधायक रहे तुलसी सिलावट शिवराज सरकार में भी मंत्री, जानें कैसे रखा सियासत में कदम?