close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

MP में फिर दहाड़ा 'एशियाटिक लॉयन' का मुद्दा, वन मंत्री उमंग सिंघार ने कही ये बड़ी बात

वन मंत्री उमंग सिंघार ने कहा कि एशियाटिक लॉयन पूरे विश्व में सिर्फ हमारे पास हैं और वो गुजरात में हैं. वहां की इतनी पॉपुलेशन हो गई है कि एशियाटिक लॉयन वहां मर रहे हैं.

MP में फिर दहाड़ा 'एशियाटिक लॉयन' का मुद्दा, वन मंत्री उमंग सिंघार ने कही ये बड़ी बात
उमंग सिंघार ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने भी कहा था कि एशियाटिक लॉयन को बचाने के लिए इन्हें शिफ्ट करना जरूरी है. एक जगह रहेंगे तो यह प्रजाति खत्म हो सकती है.

विवेक पटैया/भोपाल: गुजरात के एशियाटिक लॉयन को मध्य प्रदेश के कूनो पालनपुर अभ्यारण में शिफ्ट करने का मुद्दा एक बार फिर से उठा है. दरअसल, मध्य प्रदेश के वन मंत्री उमंग सिंघार ने सोमवार को भोपाल के वन विहार राष्ट्रीय उद्यान में राज्य स्तरीय वन्य प्राणी सप्ताह के समापन कार्यक्रम में मौजूद युवाओं स्कूल और कॉलेज के छात्रों से एशियाटिक लॉयन को बचाने और मध्य प्रदेश में लाने के लिए सोशल मीडिया पर कैम्पेन चलाने का आव्हान कर दिया. 

वन मंत्री उमंग सिंघार ने कहा कि एशियाटिक लॉयन पूरे विश्व में सिर्फ हमारे पास हैं और वो गुजरात में हैं. उन्होंने कहा कि वहां पर इतनी बीमारी आ रही है. वहां की इतनी पॉपुलेशन हो गई है कि एशियाटिक लॉयन वहां मर रहे हैं. वन मंत्री उमंग सिंघार ने कहा कि मैं युवाओं से अपील करूंगा कि एशियाटिक लॉयन को बचाने के लिए इसके बारे में आप एक सोशल मीडिया कैम्पेन चलाएं. उन्होंने अपील करते हुए कहा कि युवा यह बताएं कि किस प्रकार हम उसे बचाएं.

उमंग सिंघार ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने भी कहा था कि एशियाटिक लॉयन को बचाने के लिए इन्हें शिफ्ट करना जरूरी है. एक जगह रहेंगे तो यह प्रजाति खत्म हो सकती है. इसलिए श्योपुर के कूनो पालनपुर अभ्यारण में इन एशियाटिक लॉयन को शिफ्ट करना जरूरी है. वन मंत्री ने कहा सुप्रीम कोर्ट का निर्णय कब आएगा, वो अलग बात है लेकिन मैं चाहता हूं कि एशियाटिक लॉयन को बचाने में एक सामाजिक पहल आप लोगों की तरफ से होनी चाहिए. 

मंत्री सिंघार ने कहा कि कोई पार्टी नहीं, कोई सरकार नहीं, आप सब पहल करें कि इस एशियाटिक लॉयन को हमको बचाना है. सोशल मीडिया के माध्यम से आपका छोटा सा प्रयास एशियाटिक लॉयन को बचा सकता है. वन मंत्री उमंग सिंघार ने जी मीडिया से खास बातचीत में कहा कि यह देश की जवाबदारी है, जिस प्रकार हम राष्ट्रवाद की बात करते हैं तो देश एक हो जाता है. उसी तरह हम उस बेजुबान वन्य प्राणी एशियाटिक लॉयन के लिए क्यों नहीं बात कर रहे हैं. हमें उस एशियाटिक लॉयन को बचाना है, जो विश्व मे सिर्फ हमारे पास है. यह हम सब भारतीयों की जवाबदारी है. सरकार अपना प्रयास कर रही है. उसमें जनता की भागीदारी भी होनी चाहिए. 

उमंग सिंघार ने कहा कि सोशल मीडिया पर कैम्पेन के माध्यम से एक जनजागरूकता का प्रोग्राम हो. उसमें जनता को बताएंगे कि एशियाटिक लॉयन की प्रजाति मर रही है, उसके लिए कोई नहीं सोच रहा है. उसके लिए सोचना हमारा फर्ज है. उमंग सिंघार ने कहा कि उन्होंने एशियाटिक लॉयन के विषय मे चर्चा करने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से समय मांगा है. यदि प्रधानमंत्री समय देंगे है तो जरूर मिलूंगा.