close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

कमलनाथ सरकार खोलेगी आउटलेट, बिकेंगे कड़कनाथ चिकन और दूध

सरकार ने भोपाल में पहला आउटलेट खोल दिया है जहां गाय का शुद्ध दूध मिलेगा. इसी के साथ सरकार ने झाबुआ के मशहूर कड़कनाथ चिकन के लिए प्रदेश भर में आउटलेट खोलना शुरू कर दिया है. 

कमलनाथ सरकार खोलेगी आउटलेट, बिकेंगे कड़कनाथ चिकन और दूध

भोपाल: मध्य प्रदेश सरकार शुद्ध के लिए युद्ध मुहिम के तहत अब गाय के शुद्ध दूध का कारोबार भी करेगी. सरकार ने भोपाल में पहला Outlet (आउटलेट) खोल दिया है जहां गाय का शुद्ध दूध मिलेगा. इसी के साथ सरकार ने झाबुआ के मशहूर कड़कनाथ चिकन के लिए प्रदेश भर में Outlet (आउटलेट) खोलना शुरू कर दिया है. मध्य प्रदेश सरकार में पशुपालन मंत्री लाखन सिंह यादव कहते हैं की कमलनाथ सरकार के शुद्ध के लिए युद्ध की मुहिम छेड़ रखी है उनका विभाग इसी के तहत लोगों को शुद्ध सामान उपलब्ध कराएगा,

इससे प्रदेश भर में बेरोजगारों को रोजगार का एक नया मौका भी मिलेगा. ये Outlet (आउटलेट) पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप के आधार पर चला रही है. इसमें सरकार गाय का शुद्ध दूध, कड़कनाथ चिकन और देसी अंडे खुद मुहैया कराएगी. Outlet (आउटलेट) चलाने वाले को जगह और डीप फ्रीजर का इंतजाम करना होगा.

भोपाल में इसी आधार पर यह दो Outlet (आउटलेट) शुरू किए गए हैं. चिकन सेंटर अलग होगा और मिल्क पार्लर अलग. मध्य प्रदेश पशुधन एवं कुक्कुट विकास निगम के जरिए प्रदेश के हर जिले में ये Outlet (आउटलेट)्स खोले जाएंगे.

गाय का शुद्ध दूध और कड़क नाथ आसानी से होगा उपलब्ध
लोगों में गाय के शुद्ध दूध को लेकर जागरूकता बढ़ी है. यह दूध बच्चों के लिए फायदेमंद होता है. स्प्राइट भी कम होता है. डॉक्टर की सलाह देते हैं कि हृदय रोगियों के लिए इसका उपयोग फायदेमंद होता है. कड़कनाथ चिकन की मध्यप्रदेश में भारी डिमांड होती है.

झाबुआ के इस खास मुर्गे को अब जियो टैग भी मिल चुका है. काले रंग, काले खून का ये रोबदार दिखाई देने वाला मुर्गा अपने स्वादिष्ट मांस के लिए भी दुनियाभर में मशहूर है. ठंड के दिनों में इसकी डिमांड काफी बढ़ जाती है. लेकिन झाबुआ के आदिवासी इलाकों के अलावा इसका चिकन मिल पाना मुमकिन नहीं होता. अब सरकार हर जिले के हर शहर में कड़कनाथ मुर्गे के Outlet (आउटलेट) खोलना शुरू कर रही है.

सरकार ने छेड़ रखा है रखा है मिलावट के लिए छापेमारी अभियान
मुख्यमंत्री कमलनाथ के निर्देश पर प्रदेश के खाद्य सुरक्षा विभाग ने छापेमारी अभियान छेड़ रखा है. शुद्ध के लिए युद्ध मुहिम के तहत सबसे पहले मिलावटी दूध कारोबारियों पर कार्रवाई हुई. इसमें ग्वालियर चंबल अंचल के अलावा प्रदेश के कई हिस्सों में सिंथेटिक दूध के कारोबार का खुलासा हुआ.

दूध में शैंपू, खतरनाक रसायन और डिटर्जेंट का उपयोग करके नकली दूध तैयार किया जा रहा था. नकली दूध फैक्ट्रियां पकड़ाई. इसके बाद प्रदेश भारत में मिल्क और मिल्क प्रोडक्ट को लेकर संदेह पैदा हो गया. अब सरकार ने शुद्ध दूध मुहैया कराने की मुहिम शुरू की है.