किसान कर्ज माफी वाले बयान से पलटे कमलनाथ के मंत्री गोविंद सिंह, जानिए क्या कहा

डॉ. गोविंद सिंह भिंड जिले के मेंहगांव में 'आपकी सरकार आपके द्वार' और 'जय किसान ऋण माफी योजना' के जिला स्तरीय कार्यक्रम में शिरकत करने बतौर मुख्य अतिथि पहुंचे थे. जहां उन्होंने किसान कर्ज माफ नहीं कर पाने की बात को स्वीकारा था.

 किसान कर्ज माफी वाले बयान से पलटे कमलनाथ के मंत्री गोविंद सिंह, जानिए क्या कहा
बयान से पलटे कमलनाथ के मंत्री गोविंद सिंह

भोपाल: मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने प्रभारी मंत्रीयों को जिले में किसान कर्ज माफी के कार्यक्रम करने के निर्देश दिए हैं. जिसके बावजूद प्रभारी मंत्रियों द्वारा जिलो में जाकर अभी तक किसान कर्ज माफी ऋण वितरण नहीं किया गया है.

बता दें कि प्रदेश के कद्दावर मंत्री (सहकारिता) डॉ. गोविंद सिंह भिंड जिले के मेंहगांव में 'आपकी सरकार आपके द्वार' और 'जय किसान ऋण माफी योजना' के जिला स्तरीय कार्यक्रम में शिरकत करने बतौर मुख्य अतिथि पहुंचे थे. जहां उन्होंने किसान कर्ज माफ नहीं कर पाने की बात को स्वीकारा था. अब इस बयान से सहकारिता मंत्री डॉ गोविंद सिंह पलटते नजर आ रहे हैं. उनका कहना है, ''ये बात 1000 परसेंट झूठ है, मैंने यह नहीं कहा था. हम लगातार कर्ज माफी  कर रहे हैं. हम इसे इकट्ठा एक साथ ना करके किस्तों में कर रहे हैं. अभी कर्ज माफी के प्रथम चरण के 1 वर्ष पूर्ण हो चुके हैं और दूसरा चरण चल रहा है.''

'जय किसान ऋण माफी योजना' के जिला स्तरीय कार्यक्रम में मंच से बोलते हुए उन्होंने बड़ी साफगोई से स्वीकार किया कि उनके नेता राहुल गांधी ने चुनावी भाषणों में सरकार बनते ही किसानों की ऋण माफी का वादा किया था. उन्होंने कहा था कि सरकार बनते ही 10 दिन में किसानों का दो लाख रुपये तक का कर्जा माफ कर दिया जाएगा. लेकन हमारी सरकार अपने नेता के इस वादे को समय रहते पूरा नही कर पायी. इसी वजह से विपक्ष लगातार सरकार पर किसानों के साथ वादाखिलाफी का आरोप लगा रहा है. 

हालांकि, सहकारिता मंत्री ने इसके लिए पूर्व की बीजेपी सरकार को जिम्मेदार माना. उन्होंने कहा कि खजाना खाली करने के साथ-साथ बीजेपी सरकार उनकी सरकार पर एक लाख सतासी हजार करोड रुपये कर्ज छोड़ गई. साथ ही ठेकेदारों और बिजली कंपनियों का अरबों रुपये का कर्ज बकाया है. बाबजूद कांग्रेस सरकार अपने वादे पर टिकी है. सभी किसानों का दो लाख तक का कर्जा जल्द ही माफ होगा.