close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

BJP सांसदों की जीत को सही नहीं मान रहे कांग्रेसी, जबलपुर हाईकोर्ट में दायर की याचिका

रतलाम संसदीय क्षेत्र समेत मध्य प्रदेश के 14 संसदीय क्षेत्र के प्रत्याशियों ने जबलपुर हाईकोर्ट में याचिका दायर की है. 

BJP सांसदों की जीत को सही नहीं मान रहे कांग्रेसी, जबलपुर हाईकोर्ट में दायर की याचिका
.(प्रतीकात्मक तस्वीर)

जबलपुर/सचिन जोशी: रतलाम संसदीय क्षेत्र समेत मध्य प्रदेश के 14 संसदीय क्षेत्र के प्रत्याशियों ने जबलपुर हाईकोर्ट में याचिका दायर की है. दायर याचिका में इन प्रत्याशियों ने जीते हुए भाजपा प्रत्याशियों के खिलाफ गलत ढंग से व दस्तावेजों में गड़बड़ी का आरोप लगाते हुए इन संसदीय क्षेत्रों के लोकसभा चुनाव रद्द किए जाने की मांग की है. हारे हुए कांग्रेस प्रत्याशियों की ओर से दायर इस याचिका ने सूबे की सियासत गरमा दी है. 

ऐसे हुआ घटनाक्रम
सोमवार को कांग्रेस के कद्दावर आदिवासी नेता कांतिलाल भूरिया समेत कई दिग्गज कांग्रेसी नेता जबलपुर हाईकोर्ट पहुंचे. कांग्रेस की ओर से सोमवार को जबलपुर हाईकोर्ट में लोकसभा चुनाव के दौरान भाजपा प्रत्याशियों पर गड़बड़ी वह गलत ढंग से चुनाव जीतने का आरोप लगाया. आरोपों की जांच की मांग करते हुए दायर याचिका में प्रदेश की 14 संसदीय क्षेत्रों का लोकसभा चुनाव रद्द किए जाने की मांग की गई है.  इस दौरान कांग्रेस के आला नेताओं के साथ 14 संसदीय क्षेत्र के अधिकांश हारे हुए कांग्रेस प्रत्याशी मौजूद रहे.

इन संसदीय क्षेत्रों के लिए लगी याचिका 
जबलपुर हाईकोर्ट की शरण मे पहुंचे कांग्रेस के हारे हुए प्रत्याशियों ने रतलाम-झाबुआ, सीधी, सतना, ग्वालियर, टीकमगढ़, बालाघाट, होशंगाबाद, मंडला,उज्जैन, खरगोन, विदिशा, दमोह, सागर और शहडोल संसदीय क्षेत्र को लेकर याचिका दायर की गई है.

भाजपा ने किया पलटवार
रतलाम संसदीय क्षेत्र से कांग्रेस के हारे हुए प्रत्याशी कांतिलाल भूरिया के नेतृत्व में जबलपुर हाईकोर्ट में दायर की गई इस याचिका के बाद बीजेपी के प्रादेशिक स्तर के किसी भी पदाधिकारी का अब तक कोई बयान सामने नहीं आया है, लेकिन कांतिलाल भूरिया को हराने वाले बीजेपी सांसद गुमान सिंह डामोर ने कांग्रेस पर तीखा हमला किया है. डामोर का कहना है कि कांग्रेसी जनादेश का अपमान कर हार के पीछे बहाने ढूंढ रही है. सत्ता से दूर रहने की वजह से कांग्रेस नए-नए हथकंडे अपना रही है.