close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

मध्य प्रदेश के 32 शहरों में बारिश बनी आफत, पानी में डूबीं राजधानी भोपाल की सड़कें

मौसम विभाग के मुताबिक राजधानी भोपाल में रविवार को 44 मिमी बारिश हुई, जिससे निचले इलाकों में जलभराव की स्थिति उत्पन्न हो गई है.

मध्य प्रदेश के 32 शहरों में बारिश बनी आफत, पानी में डूबीं राजधानी भोपाल की सड़कें
विदिशा जिले में भी लगातार जारी मूसलाधार बारिश से जलभराव से बनी स्थिति बनी हुई है. (फाइल फोटो)

भोपालः मध्य प्रदेश में शनिवार से जारी हुई बारिश का सिलसिला है कि थमने का नाम ही नहीं ले रहा, जो कि रविवार को भी जारी रहा. राज्य के अलग-अलग हिस्सों में हो रही बारिश ने अब लोगों की परेशानियां बढ़ाना शुरू कर दिया  है. जिसके चलते भोपाल, रायसेन और मंडला में स्कूलों की छुट्टियां घोषित कर दी गई हैं. भोपाल कलेक्टर ने सभी स्कूलों को बंद रखने के आदेश जारी करते हुए स्थानीय लोगों को सतर्क रहने की चेतावनी दी है. मौसम विभाग के मुताबिक राजधानी भोपाल में रविवार को 44 मिमी बारिश हुई, जिससे निचले इलाकों में जलभराव की स्थिति उत्पन्न हो गई है.

खरगोन जिले में भी नर्मदा नदी उफान पर है और खतरे के निशान से तीन फीट ऊपर बह रही है. नर्मदा के इस उफान से जिले के महेश्वर, बड़वाह, मण्डलेश्वर, सनावद और कसरावद नर्मदा पट्टी में स्थिति बिगड़ गई है.
महेश्वर में नर्मदा घाट क्षेत्र के सभी मन्दिर डूब गये हैं. अहिल्या किले तक नर्मदा का पानी पहुंच गया है, जिससे किला क्षेत्र में जलभराव की स्थिति बन गई है. लोगों ने घाट क्षेत्र से अपनी दुकानों का समान ऊपरी भागों में पहुंचा दिया है. वहीं प्रशासन ने लोगों को निचले इलाकों से ऊपरी जगहों पर भेज दिया है. पुलिस और प्रशासन की टीमें चौकस होकर स्थिति पर नजर बनाए हुए हैं.

प्रदेश के आगर मालवा में भी बारिश के चलते स्कूलों और आंगनवाड़ियों में अवकाश घोषित कर दिया है. कलेक्टर संजय कुमार ने लगातार बारिश को देखते हुए सभी स्कूलों और आंगनवाड़ियों को बंद रखने के आदेश दिए हैं. साथ ही स्थानीय लोगों को भी सतर्क रहने के लिए कहा गया है.

MP सरकार का आरोप, सरदार सरोवर बांध भरने को लेकर गुजरात ने तोड़ी शर्त, CM कमलनाथ ने केंद्र से की शिकायत

आपको बता दें कि भोपाल में 58 साल बाद सितंबर में 1 दिन की सबसे ज्यादा 4 इंच बारिश दर्ज की गई है. जिसके बाद भोपाल में सितंबर का 16.87 सेंटीमीटर का कोटा पूरा हो गया है. इससे पहले 2 सितंबर 1961 को भोपाल में 4.4 इंच बारिश हुई थी. मौसम विभाग ने आज भोपाल समेत 32 जिलों में भारी बारिश का अलर्ट जारी किया.

देखें लाइव टीवी

वहीं मौसम विभाग के ऑरेंज अलर्ट जारी करने के बाद रायसेन और विदिशा में भी प्रशासन ने सभी स्कूलों की छुट्टी घोषित कर दी है. भारी बारिश को देखते हुऐ रायसेन कलेक्टर उमाशंकर भार्गव ने आज सभी स्कूलों का अवकाश किया घोषित किया है. बता दें कि मौसम विभाग ने ऑरेंज अलर्ट जारी करते हुए अगले 24 घंटों तक लोगों और प्रशासन को सतर्क रहने को कहा है. वहीं प्रशासन ने निचले इलाकों में रहने वाले लोगों को भी ऐसी जगहों को खाली करने के आदेश दिए हैं, जहां जलभराव की स्थिति की आशंका बनी है.

उत्‍तराखंड: आपदा के हालात को देखते हुए मुनस्‍यारी और धारचूला के सभी स्‍कूल 3 दिन रहेंगे बंद

विदिशा जिले में भी लगातार जारी मूसलाधार बारिश से जलभराव से बनी स्थिति को देखते हुए कलेक्टर कौशलेंद्र विक्रम सिंह ने जिले के सभी सरकारी और प्राइवेट स्कूलों और अनुदान प्राप्त संस्थाओं के लिए एक दिन का अवकाश घोषित करने का आदेश जारी किया है. जिला कलेक्टर जे सी जटिया ने आदेश जारी करते हुए सभी को जलभराव वाले क्षेत्रों से दूर रहने की सलाह भी दी है. इसके अलावा सागर में भी भारी बारिश के चलते जिले के सभी स्कूलों की छुट्टी घोषित कर दी गई है. हरदा में भी लगातार बारिश को देखते हुए कलेक्टर ने सभी शासकीय और प्राइवेट स्कूलों में छुट्टी घोषित कर दी है.

बीकानेर के कई क्षेत्रों में सामान्य से कम बारिश, सैकड़ों एकड़ फसल हुई चौपट

प्रदेश के मंदसौर जिले में भी झमाझम बारिश का दौर लगातार जारी है. बारिश के चलते लबालब भरे डेमो के गेट एक बार फिर खोलने पड़े हैं. इलाके के सबसे बड़े गांधी सागर बांध का एक बड़ा और पांच छोटे गेट खोले गए हैं, जबकि अन्य बांधो रेतम बैराज के आठ गेट गाडगिल सागर के एक गेट और काला भाटा का एक गेट खोला गया है. नदी नालों के उफान पर होने की वजह से ग्रामीण अंचलों में कुछ रास्ते बाधित हुए हैं. गौरतलब है कि पिछले वर्ष की तुलना में इस समय तक की लगभग दोगुनी बारिश अब तक दर्ज की जा चुकी है.