पूरी हुई शिवराज सरकार, 20 कैबिनेट और 8 राज्यमंत्रियों ने ली शपथ, सिंधिया गुट के 11 बनें मंत्री

गुरुवार को कुल 28 मंत्रियों ने शपथ लेंगे, जिसमें 20 कैबिनेट मंत्री, 8 राज्य मंत्री शामिल हैं. इनमें गोपाल भार्गव, विजय शाह, यशोधरा राजे सिंधिया समेत कई बड़े नेता शामिल हैं.

अंतिम अपडेट: गुरुवार जुलाई 2, 2020 - 11:48 AM IST

  • 28 मंत्रियों के साथ शिवराज सरकार का मंत्रिमंडल पूरा हो गया. इसमें 20 कैबिनेट मंत्री और 8 को राज्यमंत्री बनाया गया है. मध्य प्रदेश की प्रभारी राज्यपाल आनंदी बेन पटेल ने मंत्रियों को पद और गोपनीयता की शपथ दिलवाई है.
  • इंदर सिंह परमार ने ली मंत्रीपद की शपथ. उन्हें राज्यमंत्री बनाया गया है.
  • मुरैना की अटेर विधानसभा सीट से विधायक अरविंद सिंह भदौरिया ने ली कैबिनेट मंत्री की शपथ.
  • प्रद्युम्न सिंह तोमर ने नंगे पैर ली मंत्रीपद की शपथ. 2008 में पहली विधानसभा पहुंचे थे तोमर. सिंधिया के कट्टर समर्थकों में से एक हैं.
  • सिंधिया समर्थक इमरती देवी ने मंत्रीपद की शपथ ली. उन्हें शिवरात कैबिनेट में कैबिनेट मिनिस्टर बनाया गया है.
  • एंदल सिंह कंसाना ने मंत्रीपद और गोपनीयता की शपथ ली. कांग्रेस छोड़ बीजेपी में शामिल हुए हैं कंसाना. कैबिनेट मंत्री बनाया गया है.
  • गोपाल भार्गव ने ली मंत्री पद की शपथ. सागर जिले के रहली विधानसभा से विधायक हैं भार्गव.
  • 10:50AM: पूर्व मंत्री संजय पाठक प्रदेश अध्यक्ष बीड़ी शर्मा के साथ कार से राजभवन पहुंचे. सिंधिया भी हैं मौजूद.
  • 10:50AM: राजभवन में मंत्रियों के पहुंचने का सिलसिला जारी 
  • 10:50AM राजभवन मंत्री बनने वाले नेताओं का पहुंचने का सिलसिला शुरू हो चुका है. नरोत्तम मिश्रा, फग्गन सिंह कुलस्ते, बिसाहू लाल सिंह, राजवर्धन सिंह, कैलाश विजयवर्गीय, केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर और केंद्रीय मंत्री प्रहलाद पटेल राजभवन पहुंच चुके हैं.

    ज्योतिरादित्य सिंधिया स्टेट हैंगर पर पहुंचे. बड़ी तादाद उनके समर्थक स्वागत करने के लिए पहुंचे. 

  • रामपाल सिंह के बंगले पर पसरा सन्नाटा
    रामपाल सिंह के बंगले पर सन्नाटा है. वह अपने बंगले पर नहीं हैं. सुबह गौरीशंकर बिसेन उनसे मुलाकात करने आए थे. कल तक चर्चा थी कि रामपाल सिंह मंत्री बन सकते हैं, लेकिन सुबह जारी हुई लिस्ट से उनका नाम गायब है.
     
  • 9:50AM: सिंधिया ने साधा कांग्रेस पर निशाना

मंत्रिमंडल विस्तार से पहले ही सिंधिया ने कांग्रेस पर निशाना साधा है. उन्होंने बिना नाम लिए तंज कसा है. सिंधिया कहा कि अन्याय के खिलाफ़ छेड़ा गया संघर्ष ही धर्म है.

  • 9:47AM: मंत्री नहीं तो क्या, हो रहा है विकास, 

साइकिल चलाने से मशहूर हुए ज्योतिराज सिंधिया के कट्टर समर्थक अशोक नगर से विधायक जसपाल सिंह जज्जी ने कहा कि मंत्री भले ही नहीं बन रहा हूं पर जो विकास और साइकिल की रफ्तार रुक गई थी अब तेजी से दौड़ रही है विकास के काम हो रहे हैं.

  • दोपहर 12:30 बजे होगी शिवराज कैबिनेट की बैठक

9:40AM मंत्रियों के शपथ लेने के बाद शिवराज कैबिनेट की बैठक होगी. दोपहर 12:30 बजे होने वाली कैबिनेट बैठक में बीजेपी के बड़े नेताओं समेत ज्योतिरादित्य सिंधिया भी शामिल होंगे. वहीं सिंधिया समर्थकों से वन-टू-वन चर्चा भी होगी.

  • 7:59AM: सामने आ गए मंत्री बनने वाले चेहरों के नाम

सूत्रों के हवाले से सबसे बड़ी खबर आई है. शिवराज सरकार में 28 मंत्री पद की शपथ लेंगे. इनके नाम विधानसभा की वेबसाइट पर अपलोड किए गए हैं. इसमें 16 भाजपा, 9 सिंधिया समर्थक और 3 कांग्रेस से भाजपा में आए नाम शामिल हैं.

भाजपा विधायक (16)
1 - गोपाल भार्गव - रहली
2 - भूपेंद्र सिंह
3 - विजय शाह - हरसूद
4 - जगदीश देवड़ा - मल्हारगढ़
5 - प्रेम सिंह पटेल - बड़वानी
6 - यशोधरा राजे सिंधिया - शिवपुरी
7 - ओमप्रकाश सखलेचा - जावद
8 - बृजेंद्र प्रताप सिंह
9 - विश्वास सारंग - नरेला (भोपाल)
10 - ऊषा ठाकुर - महू
11 - मोहन यादव - उज्जैन दक्षिण
12 - अरविंद भदौरिया - अटेर
13 - भारत सिंह कुशवाह - ग्वालियर ग्रामीण
14 - इंदर सिंह परमार  - शुजालपुर
15 - राम खेलावन पटेल - अमरपाटन
16 - राम किशोर कांवरे-बालाघाट

सिंधिया समर्थक (9)
17 - राजवर्धन सिंह दत्तीगांव - 
18 - प्रदुम्न सिंह तोमर
19 - इमरती देवी
20 - महेंद्र सिसोदिया
21 - गिरिराज दंडोतिया
22 - सुरेश धाकड़
23 - ओपी एस भदौरिया
24 - प्रभुराम चौधरी
25 - ब्रिजेंद्र सिंह यादव

कांग्रेस से भाजपा में आए (3)
26 -बिसाहू लाल सिंह
27 - एंदल सिंह कंसाना
28 - हरदीप सिंह डंग

  • 7:30AM: अमृत पीने वालों का नाम आज पता चलेगा, लेकिन विष तो जनता ही पिएगी

मंत्रिमंडल विस्तार के पहले पूर्व मंत्री और कांग्रेसी नेता सज्जन सिंह वर्मा ने भाजपा पर निशाना साधा है. उन्होंने कहा कि मंत्रिमंडल का मंथन चले जा रहा है, कौन कितना “अमृत” पिएगा यह तो आज पता चल ही जायेगा, लेकिन मंथन से जो “विष” निकलेगा उसे भोली भाली जनता को ही पीना होगा. ऐसा ही होता है जब लोकतंत्र की हत्या कर
ख़रीद फ़रोख़्त से सरकार बनती है.

  • 12:02AM: मंत्रिमंडल विस्तार में शामिल होने ज्योतिरादित्य सिंधिया के साथ नरेंद्र सिंह तोमर, थावर चन्द गहलोत, फग्गन सिंह कुलस्ते और संस्कृति मंत्री प्रह्लाद पटेल चार्टर प्लेन से भोपाल आएंगे. 
  • 11:15PM: प्रदेश प्रभारी विनय सह सहस्त्रबुद्धे बोले पार्टी में ऑल इज वेल है. सबसे बातचीत के बाद आगे बढ़ेंगे. इस बार युवाओं को मिलेगा मौका. 
  • 10:35PM: विधायकों से मुलाकात करने के बाद सीएम शिवराजसिंह चौहान भी मुख्यमंत्री आवास से निकल गए.
  • सूत्रों के हवाले से बड़ी खबर आ रही है. बड़वानी से विधायक प्रेम सिंह पटेल, ग्वालियर से विधायक भारत सिंह कुशवाह, शुजालपुर से इंदर सिंह परमार के नाम पर भी मंत्री पद की मुहर लग गई है. जबकि सिंधिया खेमे से ओपीएस भदौरिया के नाम पर भी सहमति बन गई है. वहीं बीजेपी के वरिष्ठ नेता विजय शाह को विधानसभा उपाध्यक्ष बनाने पर मंथन चल रहा है. 

  • पूर्व मंत्री प्रद्युमन सिंह तोमर सीएम हाउस से रवाना हुए. मीडिया से बोले क्षेत्र की विकास की बात करने के लिए सीएम हाउस पहुंचा था. मुख्यमंत्री से मुलाकात कर चर्चा हुई है.

  • मंत्री बनने के सवाल पर तोमर बोले कि इसका फैसला पार्टी करेगी. ग्वालियर में मंत्री बनने को लेकर लगे पोस्टर के सवाल पर बोले मुझे इस बारे में जानकारी नहीं है.

  • पूर्व मंत्री गौरीशंकर बिसेन, राजेंद्र शुक्ल, संजय पाठक भी सीएम पहुंचे थे. हालांकि बाहर निकलने के बाद उन्होंने मीडिया से बातचीत करने से मना कर दिया है.
  • इससे पहले सिंधिया खेमे के प्रद्युम्न सिंह तोमर भी मुख्यमंत्री से मिलने पहुंचे थे. तोमर के कैबिनेट मंत्री बनने वाले पोस्टर भी ग्वालियर के एक चौराहे पर उनके भाई और समर्थकों ने लगा दिया है. 
  • भाजपा के प्रदेश प्रभारी विनय सहस्त्रबुद्धे मंत्रिमंडल का फॉर्मूला लेकर पार्टी कार्यालय में है. उन्होंने असंतुष्ट विधायकों और मंत्री पद के संभावित दावेदारों से वन-टू-वन चर्चा भी की है. वहीं सीएम हाउस में लगातार भाजपा विधायक और नेताओं का आना-जाना लगा हुआ है. 
  • गुरुवार 2 जुलाई को शिवराज मंत्रिमंडल का विस्तार होगा. इसको लेकर राजभवन में तैयारियां भी शुरू हो चुकी हैं. गोपाल भार्गव, भूपेंद्र सिंह, विश्वास सारंग, अरविंद भदौरिया और रामकिशोर कांवरे का नाम लगभग तय है. वहीं अभी मंत्री पद के लिए दावेदारों के नाम पर मंथन चल रहा है. इसको डैमेज कंट्रोल की तरह देखा जा रहा है. क्योंकि सिंधिया खेमे के लोगों को एडजस्ट करने के लिए बीजेपी के कुछ पूर्व मंत्रियों और विधायकों का मंत्री की कुर्सी नहीं मिलने वाली है.