लुटेरी दुल्हन गैंग का पर्दाफाश, 27 जुलाई को हुई शादी, 29 को पेड़ से लटका मिला पति का शव

8 दिन पहले 29 जुलाई को रतलाम के थाना सेलेना क्षेत्र के बाईपास पर एक युवक का शव पेड़ से लटका मिला था. शव मिलने के बाद पुलिस मामले की तह तक पहुंचने में जुट गई थी. पुलिस ने गुरुवार को इस केस से जुड़ा एक बड़ा खुलासा किया है.

लुटेरी दुल्हन गैंग का पर्दाफाश, 27 जुलाई को हुई शादी, 29 को पेड़ से लटका मिला पति का शव
सांकेतिक तस्वीर

चन्द्रशेखर सोलंकी/रतलाम: 8 दिन पहले 29 जुलाई को रतलाम के थाना सेलेना क्षेत्र के बाईपास पर एक युवक का शव पेड़ से लटका मिला था. शव मिलने के बाद पुलिस मामले की तह तक पहुंचने में जुट गई थी. पुलिस ने गुरुवार को इस केस से जुड़ा एक बड़ा खुलासा किया है. इस हत्या के पीछे लुटेरी दुल्हन गिरोह का हाथ बताया जा रहा है. इस गिरोह की एक सदस्य मीनाक्षी को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. हालांकि बाकी साथी अभी भी फरार हैं.

बताया जा रहा है कि इस लुटेरी दुल्हन गिरोह ने 3 सालों में राजस्थान और गुजरात में कई शादियां करवाकर लूट की वारदातों को अंजाम दिया है.  इस दुल्हन ने मृतक युवक से भी 27 जुलाई को शादी की थी.

क्या है पूरा मामला?
एसपी गौरव तिवारी ने बताया कि मृतक युवक महेंद्र राजस्थान के घलकिया का निवासी था और काफी समय से कुवैत में इलेक्ट्रिशियन का काम कर रहा था. 7 महीने पहले ही महेंद्र शादी के लिए अपने घर लौटा था.लॉकडाउन के बाद वह शादी के लिए दुल्हन की तलाश करने लगा.जब परिजनों के माध्यम से बात नहीं बनी तो वो गांव के ही शादी करवाने वाले एक एजेंट से मिला. जिसके बाद एजेंट मुकेश ने धार की रहने वाली मीनाक्षी पुरोहित से उसकी शादी तय करवाई थी,

मीनाक्षी व उसका परिवार 26 जुलाई को युवक महेंद्र के घर पहुंचा और एजेंट ने 3 लाख में ये शादी तय हो गई थी. दुल्हन के परिवार को तय रकम देने के बाद 27 जुलाई को महेंद्र की शादी संपन्न हुई.

जानकारी के मुताबिक 28 जुलाई की रात दुल्हन के परिवार के कुछ लोग आए थे. जो धार में अपने परिवार के अन्य लोगों से आशीर्वाद दिलवाने के नाम पर मीनाक्षी और महेंद्र को अपने साथ ले गए. 

ये भी पढ़ें-रायपुर सेंट्रल जेल में कोरोना ब्लास्ट, एक साथ सामने आए 41 पॉजिटिव मामले

हालांकि आरोपी दुल्हन से पूछताछ में सामने आया कि रास्ते में ही मृतक महेंद्र को लुटेरी दुल्हन गिरोह पर शक हो गया था. जिसके बाद गाड़ी में ही उन लोगों में विवाद शुरू हो गया था. जिसके चलते गिरोह ने महेंद्र को रास्ते मे उतार दिया था. वहीं मृतक महेंद्र के शरीर पर कोई चोट के निशान नही मिले हैं. 

फिलहाल लुटेरी दुल्हन गैंग द्वारा हत्या का कोई साक्ष्य सामने नहीं आ पाया है. अब तक मृतक द्वारा फांसी लगाकर आत्महत्या करना ही सिद्ध हुआ है. 

एसपी का कहना है कि ये पूरा मामला राजस्थान के बांसवाड़ा थाना क्षेत्र का होने के कारण इसे बांसवाड़ा पुलिस को ट्रांसफर किया जा रहा है. आगे की जांच बांसवाड़ा पुलिस द्वारा की जाएगी.

Watch LIVE TV-