M. P. चुनाव: बुधनी से कांग्रेस के प्रत्याशी अरुण यादव का यह शौक बनाता है उन्हें खास

शिवराज सिंह चौहान से यह सीट हथियाने में अगर अरुण कामयाब होते हैं तो उन्हें मिल सकता है बड़ा ईनाम 

M. P. चुनाव: बुधनी से कांग्रेस के प्रत्याशी अरुण यादव का यह शौक बनाता है उन्हें खास
कांग्रेस ने दी है बड़ी जिम्मेदारी, फोटो साभार: फेसबुक

नई दिल्ली: बीजेपी का अभेद किला बन चुकी सीट बुधनी विधानसभा पर इस बार कांग्रेस ने एक दमदार दांव लगाया है. प्रदेश के मुख्यमंत्री को टक्कर देने के लिए इस बार 44 वर्षीय अरुण यादव मैदान में उतरे हैं. इस युवा प्रत्याशी की प्रदेश कांग्रेस में गहरी साख तो है ही, साथ ही इनकी एक आदत ऐसी है जो लोगों का दिल जीतने में कामयाब है. जी हां अरुण यादव को रेलवे की पटरियों के किनारों पर बैठकर चाय की चुस्कियां लेने का शौक है. आइए जानते हैं अरुण यादव के बारे में ऐसी खास बातें...

दिन में कई बार पीते हैं चाय 
अरुण यादव को आम जनता से जोड़ने का एक बेहतरीन जरिया है उनकी चाय पीने की आदत. अरुण के साथियों की माने तो उन्हें सड़क किनारे बनी गुमटियों पर खड़े होकर चाय पीना काफी पसंद है. इतना ही नहीं रेलवे की पटरियों के पास चाय पीने में उन्हें काफी मजा आता है. इसके पीछे वजह है कि इन्हीं जगहों पर वह आम लोगों को करीब से देख और समझ पाते हैं. 

बन सकते हैं मुख्यमंत्री 
शिवराज ने 1990 में पहली बार इसी बुधनी विधानसभा सीट से जीत का स्वाद चखा था. वह 5 बार इस सीट से सांसद रह चुके हैं. इसलिए शिवराज सिंह चौहान से यह सीट हथियाने में अगर अरुण कामयाब होते हैं तो उन्हें प्रदेश मुख्यमंत्री का ताज मिल सकता है. 

अब तक कांग्रेस में कमलनाथ और सिंधिया में से किसी एक के मुख्यमंत्री बनने की बात हो रही थी, वहीं शुक्रवार को वोटिंग से ठीक पहले कांग्रेस में मुख्यमंत्री के चेहरे के रूप में एक नया नाम सामने आया है. शुक्रवार को मध्यप्रदेश के चुनावी दौरे पर आए पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी ने अरुण यादव को इशारों ही इशारों में मुख्यमंत्री के चेहरे के रूप में प्रोजेक्ट कर दिया. इस बात के बाद से अरुण यादव की कोशिशें भी जाहिर तौर पर कई गुना बढ़ गईं हैं. राहुल गांधी के इस बयान ने पूरे प्रदेश में खलबली सी मचा दी है. 

परिचय 
अरुण यादव प्रदेश के पूर्व उप मुख्यमंत्री सुभाष यादव के बेटे हैं. उनका जन्म 15 जनवरी 1974 को खरगौन जिले में हुआ. स्कूल की पढ़ाई तो प्रदेश में ही हुई लेकिन कॉमर्स से ग्रेजुएट अरुण ने अपनी डिग्री जयपुर से पूरी की. इसलिए छात्र राजनीति का हिस्सा न होकर सीधे प्रदेश राजनीति में सक्रीय हो गए. मध्‍यप्रदेश की राज्‍य कांग्रेस कमेटी के अध्‍यक्ष अरुण की पत्‍नी का नाम डॉ. नम्रता यादव है और उनके दो बच्चे हैं जिनके नाम हर्षवर्धन और खुशी हैं.