close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

रतलाम में 4 साल की बच्ची से हैवानियत, चॉकलेट के बहाने दिया घटना को अंजाम

जानकारी मिलने पर परिजन बच्ची को ढूंढते हुए निर्माणाधीन मकान की छत पर पहुंचे, जहां परिजनों ने आरोपी को बच्ची के साथ घटना करते देखा. आरोपी को बच्ची के साथ दुष्कर्म करते देख परिजनों ने शोर मचाना शुरू कर दिया.

रतलाम में 4 साल की बच्ची से हैवानियत, चॉकलेट के बहाने दिया घटना को अंजाम

चंद्रशेखर सोलंकी/रतलामः मध्य प्रदेश के रतलाम के नामली में एक बार फिर दुष्कर्म का सनसनीखेज मामला सामने आया है. जहां 4 वर्षीय बच्ची के परिजनों ने पुलिस को शिकायत की है कि सुबह 8:30 परजब बच्ची घर के आंगन में खेल रही थी, तभी 55 वर्षीय आरोपी बाबूलाल कुमावत बच्ची को चॉकलेट का लालच देकर घर के बाहर से ले गया और पास ही एक निर्माणाधीन मकान में जा घुसा, वहां से गुजर रहे राहगीर ने आरोपी को बच्ची के साथ निर्माणाधीन मकान में जाते देख बच्ची के परिजनों को सूचना दी. 

जानकारी मिलने पर परिजन बच्ची को ढूंढते हुए निर्माणाधीन मकान की छत पर पहुंचे, जहां परिजनों ने आरोपी को बच्ची के साथ घटना करते देखा. आरोपी को बच्ची के साथ दुष्कर्म करते देख परिजनों ने शोर मचाना शुरू कर दिया, जिसके बाद आरोपी 55 वर्षीय बाबूलाल बच्ची को छोड़कर मौके से फरार हो गया.

देखें LIVE TV

मध्य प्रदेश में जारी है अंडों पर सियासत, कांग्रेस-भाजपा में मचा घमासान

जिसके बाद पीड़िता के परिजनों ने आरोपी के खिलाफ मामला दर्ज कराते हुए पुलिस को इस पूरी घटना की जानकारी दी. पुलिस ने बताया कि परिजनों की शिकायत पर आरोपी के खिलाफ 376 और पॉक्सो एक्ट में मामला दर्ज कर लिया गया है और फरार आरोपी की तलाश की जा रही है. वहीं बच्ची का मेडिकल भी करवाया गया है. रिपोर्ट आने के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी.

दादी को बुढ़िया कहना पड़ा भारी, आपस में भिड़े परिवार के लोग, युवक की मौत

आपको बता दें कि शुक्रवार को प्रदेश के कृषि मंत्री व रतलाम प्रभारी मंत्री सचिन यादव भी रतलाम में थे और दोपहर बाद से रात तक नामली के पास ग्रामीण इलाकों में दौरा करते रहे. हालांकि इस घटना में पीड़ित परिवार से मंत्री नहीं मिले, जिस पर अब सवाल  खड़े होते हैं कि क्या मंत्री जी को इस घटना की जानकारी नही मिल पाई. आखिर घटना वाले क्षेत्र के ग्रामीण इलाकों में रात तक मंत्रीजी मौजूद रहे तो फिर पीड़ित परिवार से क्यों नहीं मिले.