मध्य प्रदेशः 8 सालों से बन रही 70 किलोमीटर की सड़क का काम अब तक अधूरा

सतना से चित्रकूट को जाने वाली इस सड़क के निर्माण पर अभी तक 300 करोड़ से ज्यादा खर्च हो चुके हैं, दो ठेकेदार भी बदले जा चुके हैं, लेकिन स्टेट हाइवे क्रमांक 11 की यह सड़क है कि आज तक नहीं बन पाई

मध्य प्रदेशः 8 सालों से बन रही 70 किलोमीटर की सड़क का काम अब तक अधूरा
फाइल फोटो

नई दिल्ली/सतनाः जहां एक ओर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान मध्य प्रदेश की सड़कों को अमेरिका की सड़कों से बेहतर बता रहे हैं तो वहीं आज भी प्रदेश में ऐसे कई हिस्से हैं, जहां या तो सड़क ही नहीं है और अगर है भी तो ऐसी हालत में कि समझ नहीं आता की सड़कों में गड्ढे हैं या गड्ढों में सड़क. ऐसा ही कुछ हाल है सतना से चित्रकूट को जोड़ने वाली सड़क का. जहां 70 किलोमीटर की सड़क बनाने का काम पिछले 8 सालों से चल रहा है, लेकिन आज तक यह सड़क नहीं बन पाई है. यही नहीं लापरवाही का आलम यह है कि सड़क की स्थिति जानते हुए भी यहां सुरक्षा के भी कोई इंतजाम नहीं हैं. जिसके चलते यहां आए दिन छोटी-बड़ी दुर्घटनाएं होती रहती हैं. ऐसे में न तो लोगों को समय पर मदद मिल पाती है और न ही जरूरी चीजें.

MP: चित्रकूट रोड पर बस पलटने से हुआ हादसा, 2 की मौत, 15 लोग घायल

300 करोड़ सड़क के निर्माण पर खर्च
बता दें सतना से चित्रकूट को जाने वाली इस सड़क के निर्माण पर अभी तक 300 करोड़ से ज्यादा खर्च हो चुके हैं, दो ठेकेदार भी बदले जा चुके हैं, लेकिन स्टेट हाइवे क्रमांक 11 की यह सड़क है कि आज तक नहीं बन पाई है. वहीं बात करें जिम्मेदार अधिकारियों कि तो वह इसका पूरा ठीकरा ठेकेदारों के मत्थे मढ़ देते हैं, लेकिन सड़क की स्थिति में आज तक कोई सुधार नहीं है. बारिश के चलते आए दिन इस रोड पर जाम लग जाता है. पानी के चलते सड़क अब तालाब का रूप ले चुकी है, लेकिन एमपीआरडीसी के अधिकारियों ने अभी तक किसी भी तरह का कदम नहीं उठाया है.

तस्वीरें: भारी बारिश के बाद आई बाढ़, बिहार-नेपाल का कुछ ऐसा हुआ हाल

हर रोज लग जाता है जाम
चित्रकूट के पास बगदरा घाटी में सड़क बेहद खराब हो चुकी है. बरसात शुरू होते ही हर रोज यहां कई किलोमीटर लंबा जाम लग जाता है. रक्षाबंधन के दिन रात में 2 ट्रक सड़क में धंस गए तभी एक यात्री बस निकली उसके चारों पहले सड़क में धंस गए इस बीच नेपाल के 80 यात्रियों की बस आई और फंस गई इस तरीके से करीब 5 किलोमीटर लंबा जाम बगदरा घाटी में लग गया और उसको खोलने के लिए कोई प्रयास नहीं किए जा रहे. भगवान राम की तपोभूमि चित्रकूट में दर्शन के लिए पड़ोसी देश नेपाल के यात्री अच्छी खासी संख्या में चित्रकूट आते हैं, लेकिन खराब सड़कों के चलते वह भी परेशान हो जाते हैं.