डिंडौरी: एंबुलेंस नहीं मिली तो घायल को खटिया पर लाद अस्पताल पहुंचने को मजबूर हुए परिजन

मामले में संज्ञान लेते हुए स्थानीय थाना प्रभारी सी के सिरामे ने तत्काल एम्बुलेंस के जरिये घायल को किसलपुरी के अस्पताल से बेहतर उपचार के लिए जिला अस्पताल में भर्ती कराया है. जहां उसका इलाज चल रहा है.

डिंडौरी: एंबुलेंस नहीं मिली तो घायल को खटिया पर लाद अस्पताल पहुंचने को मजबूर हुए परिजन
एंबुलेंस नहीं मिलने पर घायल को घटिया पर लादकर अस्पताल ले जाते परिजन

डिंडौरी: मध्य प्रदेश के डिंडौरी में एक बार फिर स्वास्थ्य विभाग की लापरवाही सामने आई है. जिले के लुटगांव के गंभीर रूप से घायल हीरालाल को अस्पताल ले जाने के लिए जब एंबुलेंस नहीं मिली तो परिजन खटिया पर ही लादकर 2 किलोमीटर दूर स्थित किसलपुरी के स्थानीय अस्पताल पहुंच गए. हीरालाल की तबियत में यहां भी सुधार नहीं हुआ तो परिजनों ने इसकी सूचना स्थानीय थाने में दी. मामले में संज्ञान लेते हुए स्थानीय थाना प्रभारी सी के सिरामे ने तत्काल एम्बुलेंस के जरिये घायल को किसलपुरी के अस्पताल से बेहतर उपचार के लिए जिला अस्पताल में भर्ती कराया है. जहां उसका इलाज चल रहा है.

इंदौर: बिना लाइसेंस वाले फल और सब्जी विक्रेताओं की खैर नहीं, कलेक्टर ने दिये कार्रवाई के आदेश

डिंडौरी थाना प्रभारी सी के सिरामे के मुताबिक हीरालाल नदी में नहाने गया था. इस दौरान उसे चक्कर आ गया और वो गिर गया. इसके बाद परिवार वालों ने उसे इलाज के लिए किसलपुरी अस्पताल में भर्ती किया था. इलाज के बाद भी उसकी तबियत लगातार विगड़ती गई. जब इस बारे में उन्हें जानकारी हुई तो उन्होंने घायल को बेहतर उपचार के लिए जिला अस्पताल में भर्ती कराया. एंबुलेंस नहीं मिलने के सवाल पर उन्होंने बताया कि उन्हें इस बारे में कोई जानकारी नहीं है. फिलहाल हीरालाल घायल कैसे हुआ इसकी जांच हम अन्य एंगल से भी कर रहे हैं.

मध्य प्रदेश में कोरोना संक्रमण की स्थिति जानने के लिए केंद्र ने भेजी दो सदस्यीय टीम

घायल के पिता जय सिंह ने बताया कि हीरालाल गंभीर रूप से घायल हो गया था. परिवार के अन्य सदस्यों ने 100 और 108 नंबर पर संपर्क करने की कोशिश कि लेकिन संपर्क नहीं हो पा रहा था. घायल हीरालाल की तबियत भी लगातार खराब हो रही थी. इसलिए परिवार के 4 सदस्यों ने उसे घटिया पर लादकर किसलपुरी अस्पताल पहुंचाया.