close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

ज्योतिरादित्य सिंधिया के साथ बहस की खबर गलत, हम मध्य प्रदेश में एकजुट हैं: दिग्विजय सिंह

ऐसी खबर आई थी कि राहुल गांधी के सामने दोनों नेताओं के बीच अपने-अपने समर्थकों को टिकट दिलाने के लिए के लिए जमकर विवाद हुआ था.

ज्योतिरादित्य सिंधिया के साथ बहस की खबर गलत, हम मध्य प्रदेश में एकजुट हैं: दिग्विजय सिंह
नामांकन 2 नवंबर से दाखिल किए जा सकते हैं.

नई दिल्ली: कांग्रेस नेता और मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने ट्वीट कर कहा कि मेरे और ज्योतिरादित्य सिंधिया के बीच किसी तरह की बहस नहीं हुई है. इस बात में कोई सच्चाई नहीं है कि हम दोनों के बीच राहुल गांधी के सामने बहस हुई और उनके दखल के बाद यह मामला शांत हुआ. मीडिया में जो खबर चल रही है उसका कोई आधार नहीं है और बेबुनियाद है. मध्य प्रदेश में हम सभी एकजुट हैं और भ्रष्टाचार में लिप्त बीजेपी सरकार को हराने के लिए तैयार हैं.

मध्य प्रदेश में अभी तक कांग्रेस ने उम्मीदवारों की एक भी सूची जारी नहीं की है. इस बीच ऐसी खबर आई थी कि उम्मीदवारों को लेकर मध्य प्रदेश कांग्रेस के दो दिग्गज दिग्विजय सिंह और ज्योतिरादित्य सिंधिया के बीच राहुल गांधी के सामने बीच तीखी बहस हो गई. राहुल गांधी द्वारा दखलअंदाजी देने के बाद दोनों नेता शांत हुए.

 

 

कहा जा रहा है कि कांग्रेस की केंद्रीय चुनाव समिति की प्रस्तावित बैठक से पहले दोनों नेताओं के बीच अपने-अपने समर्थकों को टिकट दिलाने के लिए के लिए जमकर विवाद हुआ, जिसके बाद यह बैठक टाल दी गई. गुरुवार को प्रस्तावित बैठक में पार्टी के अध्यक्ष राहुल गांधी, मनमोहन सिंह, अशोक गहलोत, अहमद पटेल, अंबिका सोनी समेत तमाम बड़े नेता हिस्सा लेने वाले थे. जानकारी के मुताबिक, यह बैठक अब शुक्रवार को होगी. 

बीजेपी भी उम्मीदवारों की पहली लिस्ट आज देर रात तक जारी कर सकती है. इसको लेकर बीजेपी की केंद्रीय चुनाव समिति (सीईसी) की बैठक हुई, जिसमें ज्यादातर प्रत्याशियों के नाम तय कर लिए गए हैं. बीजेपी ने अपने उम्मीदवारों के चयन के लिए सर्वे को आधार बनाया है. पार्टी के शीर्ष नेतृत्व का साफ मानना है कि उन्हीं उम्मीदवारों को टिकट दिया जाएगा जो जिताऊ हैं. इसी वजह से सर्वे को टिकट पाने का आधार माना गया है.

जानकारी के मुताबिक, स्क्रीनिंग कमेटी ने करीब 30 उम्मीदवारों के नाम को केंद्रीय चुनाव समिति को भेजा है. 230 में से 150 उम्मीदवारों के नाम तय किए जा चुके हैं. हालांकि, आखिरी फैसला केंद्रीय चुनाव समिति को ही लेना है. कांग्रेस की कोशिश है कि सभी 230 उम्मीदवारों के नामों की घोषणा 5 नवंबर से पहले तक कर लिया जाए. पहली लिस्ट में किसे टिकट मिलता है और किस खेमे के ज्यादा प्रत्याशियों को टिकट मिलता है, इसके लिए शुक्रवार का इंतजार करना होगा.

मध्य प्रदेश में एक चरण में सभी 230 सीटों के लिए 28 नवंबर को वोट डाले जाएंगे. नामांकन 2 नवंबर से दाखिल किए सकते हैं. नामांकन दाखिल करने की अंतिम तारीख 9 नवंबर है. 12 नवंबर तक नामांकन पत्रों की जांच होगी और 14 नवंबर तक उम्मीदवार नामांकन वापस ले सकते हैं. 28 नवंबर को मतदान होगा.