close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

MP: एक और किसान ने लगाया मौत को गले, पुलिस ने कहा- नहीं था कर्ज का बोझ

मध्यप्रदेश के धार जिले में एक किसान ने सोमवार की सुबह पेड़ से लटककर आत्महत्या कर ली.

MP: एक और किसान ने लगाया मौत को गले, पुलिस ने कहा- नहीं था कर्ज का बोझ
पुलिस का मानना है कि किसान ने आत्महत्या पारिवारिक वजहों से की है.(प्रतीकात्मक फोटो)

नई दिल्ली/धार: मध्यप्रदेश के धार जिले में एक किसान ने सोमवार की सुबह पेड़ से लटककर आत्महत्या कर ली. पुलिस ने आत्महत्या के पीछे पारिवारिक कारण बता रही है, जबकि परिजन अभी कुछ बताने की स्थिति में नहीं हैं. पुलिस के अनुसार, धार जिले के एक किसान ने अपने खेत में लगे पेड़ से लटक कर आत्महत्या कर ली. पुलिस का मानना है कि किसान ने आत्महत्या पारिवारिक वजहों से की है. पुलिस के अनुसार, मामले में अभी तक कर्ज का बोझ या अन्य कोई बात सामने नहीं आई है. आपको बता दें कि कुछ दिनों पहले ही बुरहानपुर जिले में एक किसान ने सूदखोर का कर्ज न चुका पाने पर अपने बेटे को गिरवी रख दिया था. जब वह गिरवी रखे बच्चे को नहीं छुड़ा पाया, तो आत्मग्लानि के कारण उसने जान दे दी.

पुलिस के मुताबिक, धार जिले के कानवन थाना क्षेत्र के ग्राम कोद निवासी किसान जगदीश पाटीदार (42) का शव सोमवार की सुबह उसके खेत में स्थित पेड़ से लटका मिला. बताया जा रहा है कि जगदीश ने पिछले दिनों ही अपनी पांच बीघा जमीन बेची थी, उसके बाद भी उसके पास 15 बीघा जमीन थी. जमीन बेचने के कारण उसका अपने परिवार से विवाद चल रहा था. कानवन के थाना प्रभारी एनके वाजपेयी ने बताया कि जगदीश ने पांच बीघा जमीन बेची थी. उसी को लेकर परिवार में विवाद चल रहा था. उन्होंने कहा कि ऐसा अंदेशा है कि इसी विवाद के चलते उसने यह कदम उठाया होगा. पुलिस मामले की जांच कर रही है. कर्ज का बोझ या अन्य कोई बात अभी सामने नहीं आई है. 

आपको बता दें कि मध्यप्रदेश के बुरहानपुर जिले में दो दिन पहले एक किसान ने कर्ज के बोझ तले दबकर आत्महत्या कर ली थी. किसान ने अपने खेत में ही कीटनाशक पीकर अपनी जान दे दी. किसान ने ब्याज पर लाखों का उधार ले रखा था. साथ ही किसान ने पड़ोस में रहने वाले शख्स के पास अपने बेटे को भी ढाई लाख में गिरवी रखा था.