MP: हुकुम सिंह कराड़ा का बड़ा खुलासा, गांधी सागर डैम के गेट नहीं खोलते तो मच जाती तबाही

हुकुम सिंह कराड़ा (Minister Hukum Singh Karada) ने कहा कि मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) में भारी बारिश के दौरान ऐसी स्थित बन गई थी कि अगर गांधी सागर डैम के गेट नहीं खोले जाते तो डैम टूट सकता था.

MP: हुकुम सिंह कराड़ा का बड़ा खुलासा, गांधी सागर डैम के गेट नहीं खोलते तो मच जाती तबाही
मध्य प्रदेश के जल संसाधन मंत्री हुकुम सिंह कराड़ा

शाजापुरः मध्य प्रदेश के जल संसाधन मंत्री हुकुम सिंह कराड़ा ने पहली बार गांधी सागर डैम (Gandhi Sagar Dam) को लेकर एक खुलासा किया है. मंत्री हुकुम सिंह कराड़ा (Minister Hukum Singh Karada) ने कहा कि मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) में भारी बारिश के दौरान ऐसी स्थित बन गई थी कि अगर गांधी सागर डैम के गेट नहीं खोले जाते तो डैम टूट सकता था और अगर डैम टूटता तो राजस्थान (Rajasthan) के रावतभाटा परमाणु संयंत्र (Rawatbhata Nuclear Plant) में पानी घुस जाता और रेडिएशन फैल जाता.

मंत्री हुकुम सिंह कराड़ा ने कहा कि फिर देश में रूस में चेर्नोबिल परमाणु संयंत्र जैसा हादसा हो सकता था. मंत्री हुकुम सिंह कराड़ा ने कहा कि उस समय पीएमओ, कोटा सांसद ओम बिरला, मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) और राजस्थान (Rajasthan) सरकार के हाथ पैर फुल गए थे. इसलिए उस समय गांधी सागर डैम के गेट खोलना पड़े और कोटा को तबाही से बचाने के लिए भिंड , मुरैना (Morena) की तरफ पानी को मोड़ना पड़ा.

छत्तीसगढ़ की अंडर-18 क्रिकेट टीम के खिलाड़ियों के साथ ट्रेन में लूटपाट, टूर्नामेंट खेलकर लौट रहे थे

मध्य प्रदेश के जल संसाधन मंत्री हुकुम सिंह कराड़ा के गांधीसागर बांध (Gandhi Sagar Dam) को लेकर दिए गए बयान को लेकर बीजेपी (BJP)  ने प्रदेश सरकार पर हमला बोला है. बीजेपी विधायक यशपाल सिंह सिसोदिया (BJP MLA Yashpal Singh Sisodia) का कहना है कि जल संसाधन विभाग और प्रशासन के कर्मचारियों की लापरवाही की वजह से समय पर बांध के गेट नहीं खोले गए और मंदसौर में बाढ़ आई. उन्होंने कहा कि पीएमओ के दखल के बाद प्रशासन जागा. आखिरकार मंत्री जी ने भी लापरवाही की बात मान ही ली.