मध्यप्रदेश : पतियों की पिटाई के मामले में सबसे आगे इंदौर, दूसरे पायदान पर भोपाल

पत्नियों से मारपीट की शिकायतें लगभग पूरे देश की ही समस्या बनी हुई है. पुलिस चौकी में महिलाओं के प्रति अत्याचार के मामले आम हो चुके हैं

मध्यप्रदेश : पतियों की पिटाई के मामले में सबसे आगे इंदौर, दूसरे पायदान पर भोपाल
इंदौर में पतियों की पिटने की शिकायतें सबसे अधिक मिलींं... (प्रतीकात्मक फोटो)

नई दिल्लीः भोपाल में हर महीने लगभग 13 पतियों की पिटाई के मामले दर्ज हुए हैं. दरअसल, पतियों की पिटाई का मामला तब सामने आया जब डायल 100 की टीम ने बीटिंग हस्बैंड इवेंट की नई कैटेगरी बनाई. इस कैटेगरी में जहां इंदौर पहले पायदान पर है तो वहीं भोपाल ने दूसरे पायदान पर जगह बनाई है. भोपाल में पिछले 4 महीनों में 52 पतियों के पिटने के केस सामने आए हैं.

पति भी हो रहे घरेलू हिंसा का शिकार
दैनिक भास्‍कर में प्रकाशित खबर के अनुसार, दिसंबर 2017 में डायल 10 की टीम ने डोमेस्टिक वायलेंस से बीटिंग वाइफ इवेंट और बीटिंग हस्बैंड इवेंट को अलग किया गया, जिसके बाद जनवरी 2018 से अप्रैल 2018 के बीच 772 पतियों ने पत्नियों द्वारा पिटाई की शिकायतें दर्ज कराई. पत्नियों द्वारा पीटे जाने वाले पतियों में सबसे अधिक पति इंदौर के रहे. इंदौर में 74 पतियों ने पिटाई की शिकायत दर्ज कराई. 

महिलाओं से मारपीट के मामले सबसे अधिक
महिलाओं से मारपीट के मामले मध्‍यप्रदेश में कितने अधिक होते हैं, इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि प्रदेश में पिछले 4 महीनों में पत्नी से मारपीट के 22 हजार मामले दर्ज हुए हैं. इस मामले में भी इंदौर ने बाकी के क्षेत्रों को पछाड़ते हुए 2115 मामलों के साथ पहले स्थान पर जगह बनाई है. इसके अलावा भोपाल में 1546 शिकायतें दर्ज की गईं. इस कैटेगरी में जबलपुर, ग्वालियर जैसे शहरों की महिलाओं ने भी पतियों द्वारा अत्याचार के मामले दर्ज कराए हैं.

डायल 100 पर सबसे अधिक कॉल्स महिलाओं के
बता दें डायल 100 पर सबसे अधिक कॉल्स महिलाओं के होते हैं. डायल 100 पर रोजाना 25 हजार से ज्यादा कॉल आते हैं जिनमें सबसे अधिक कॉल महिलाओं के होते हैं. इन कॉल्स में केवल कुछ ही जगह ऐसी होती हैं जो पहुंचने लायक होती हैं. डायल 100 पर कई फेक कॉल्स भी आते हैं. जिसके चलते पुलिस को कई दिक्कतों का सामना करना पड़ता है.