खंडवा: लॉकडाउन में बिजनेस ठप होने से व्यापारी ने की आत्महत्या, जांच में जुटी पुलिस

मृतक व्यापारी के भाई सुभाष झामवानी ने बताया कि उनके भाई का कारोबार इलाके को कंटेनमेंट जोन बनाए जाने की वजह से चौपट हो गया था. इसकी वजह से वे काफी परेशान रहते थे.

खंडवा: लॉकडाउन में बिजनेस ठप होने से व्यापारी ने की आत्महत्या, जांच में जुटी पुलिस
सांकेतिक तस्वीर

खंडवा: मध्य प्रदेश के खंडवा जिले के एक व्यापारी ने लॉकडाउन और कंटेनमेंट जोन की वजह से व्यापार प्रभावित होने पर आत्महत्या कर ली. इस घटना से इलाके में हड़कंप मच गया. घटना की सूचना पर पहुंची स्थानीय पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है. फिलहाल व्यापारी की मौत के सही वजहों का अभी तक पता नहीं चल पाया है.

मध्य प्रदेश का मौसम बदला, कई जिलों में गरज-चमक के साथ होगी बारिश

मृतक व्यापारी के भाई सुभाष झामवानी ने बताया कि उनके भाई का कारोबार इलाके को कंटेनमेंट जोन बनाए जाने की वजह से चौपट हो गया था. इसकी वजह से वे काफी परेशान रहते थे. सुभाष झामवानी ने बताया कि दुकान नहीं खुलने की वजह से उनके सामने रोजी-रोटी का संकट खड़ा हो गया था. साथ ही वे अपनी पत्नी का इलाज भी नहीं करा पा रहे थे. इससे परेशान हो कर उन्होंने आत्महत्या कर ली. परिवार का खर्च चल सके और बेटियों की परवरिश हो सके इसलिए हम सरकार से आर्थिक मदद की गुजारिश करते हैं.  

खंडवा पुलिस अधीक्षक विवेक सिंह ने बताया कि जिले के टैगोर कलोनी निवासी 42 वर्षीय बालचंद झामवानी ने बीती रात आत्महत्या कर ली. व्यापारी ने आत्महत्या क्यों कि अभी तक इसके सही कारणों का पता नहीं चल पाया है. फिलहाल मामला दर्ज कर जांच की जा रही है. जांच के बाद उचित कार्रवाई की जाएगी.

छिंदवाड़ा: प्रधान आरक्षक और होमगार्ड ने गायब की थी पिस्टल, पूछताछ में हुआ खुलासा

टेगौर कलोनी वार्ड की पार्षद सागर आरतानी ने व्यापारी की मौत का आरोप जिला प्रशासन पर लगाया. उन्होंने कहा कि इलाके के कोरोना मरीज ठीक चुके हैं. फिर भी जिला प्रशासन इलाके को कंटेनमेंट जोन में रखा है. इससे कलोनी वासियों को काफी दिक्कत हो रही हैं. उन्होंने कहा कि बाकी कलोनियों में कंटेनमेंट जोन छोटे बनाए जा रहे हैं, लेकिन यहां पर पूरी कलोनी को कंटेनमेंट जोन बनाया गया है. पार्षद ने कहा कि जिला प्रशासन को मृतक के घर के हालात का जायजा लेकर आर्थिक मदद करनी चाहिए.  

Watch Live TV-