close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

मध्य प्रदेशः अच्छी बारिश के लिए दुआओं का दौर शुरू, कहीं पढ़ी गई नमाज तो कहीं रात भर हुए भजन

जिले में मुस्लिम समाज भी अपने अपने घरों से निकलकर गांव से बाहर ईदगाह पर पहुंचकर अच्छी बारिश के लिए विशेष नमाज पढ़कर दुआएं कर रहे हैं.

मध्य प्रदेशः अच्छी बारिश के लिए दुआओं का दौर शुरू, कहीं पढ़ी गई नमाज तो कहीं रात भर हुए भजन
मंदिरों में अच्छी बारिश के लिए प्रार्थना की जा रही है. (फाइल फोटो)

नई दिल्लीः मध्य प्रदेश में इन दिनों मेघ देवता जरा नाराज चल रहे हैं, जिसके चलते प्रदेश के कई इलाकों में बारिश को कोई नामो-निशान तक नहीं है. ऐसे में देवास जिले में अच्छी बारिश के लिए भजन कीर्तन तो कहीं अनुष्ठान किए जा रहे हैं. यही नहीं, बारिश न होने से परेशान लोगों ने टोने-टोटके भी आजमाना शुरू कर दिया है. वहीं जिले में मुस्लिम समाज भी अपने अपने घरों से निकलकर गांव से बाहर ईदगाह पर पहुंचकर अच्छी बारिश के लिए विशेष नमाज पढ़कर दुआएं कर रहे हैं. यह नमाज 3 दिन तक गांव से बाहर ईदगाह पर लगातार पढ़ी जाएगी. अच्छी बारिश के लिए दुआ के लिए हाथ फैलाए जाएंगे.

जिले के बढ़िया मांडू इस्लामनगर आदि जगह नमाजें पढ़ी जा रही हैं. कई जगह मिलाद शरीफ का भी आयोजन चल रहा है, क्योंकि कई दिनों से बारिश नहीं होने के कारण अब किसानों की सोयाबीन की फसल पीली पड़ने लग गई है और चावल की फसल भी बर्बादी की कगार पर है. इसी के चलते किसानों के माथे पर चिंता की लकीर खींच गई है. अगर कुछ दिन और पानी नहीं गिरा तो किसानों की सोयाबीन और चावल की फसलें बर्बाद हो जाएंगी, जिसके चलते अब लोगों ने भगवान के सामने अच्छी बारिश के लिए प्रार्थनाएं करना शुरू कर दिया है.

34 हजार के सिक्कों के साथ कुटुंब न्यायालय पहुंचा पति, जज ने माना पत्नी को प्रताड़ित करने का तरीका

देखें लाइव टीवी

रतलाम में भी बारिश के लिए लोगों ने भजन-कीर्तन शुरू कर दिए हैं. मंदिरों में बारिश के लिए प्रार्थना की जा रही है. क्षेत्र के लोग बारिश न होने से काफी परेशान हैं और इसी के चलते यहां के लोगों ने मेंढक-मेंढकी के जोड़े की यात्रा निकाली, जिसमें कई लोग शामिल हुए. रतलाम के करमदी में भैरव मंदिर पर 2 दिन से लगातार ढोल बजाकर बारिश के लिए भगवान को मनाया जा रहा है, रतलाम के बरबड़ में तो बारिश की प्रार्थना के लिए भजन किए जा रहे हैं, जिसमें बोहरा समाज के लोग भी शामिल हुए.