close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

MP: मंत्री सज्जन सिंह वर्मा का BJP नेताओं पर आपत्तिजनक बयान, भूले भाषा की मर्यादा

मंत्री सज्जन सिंह वर्मा का आरोप है कि सिर्फ उज्जैन ही नहीं बल्कि और भी कई जगहों पर बाबा साहेब की प्रतिमा से छेड़छाड़ के मामले सामने आए हैं. उनका आरोप है कि भाजपा नेता वर्गों में लड़ाई कराना चाहते हैं.

MP: मंत्री सज्जन सिंह वर्मा का BJP नेताओं पर आपत्तिजनक बयान, भूले भाषा की मर्यादा
मध्यप्रदेश पीडब्ल्यूडी मंत्री सज्जन सिंह वर्मा (फोटो साभारः Twitter)

उज्जैनः उज्जैन पहुंचे प्रभारी मंत्री सज्जन सिंह वर्मा ने आज कोठी रोड स्थित भीमराव अंबेडकर की प्रतिमा का अनावरण किया. दरअसल, 2 दिन पहले ही अंबेडकर की मूर्ति को किसी ने क्षतिग्रस्त कर दिया था, जिसके चलते आक्रोशित समर्थकों ने इस घटना का जमकर विरोध किया और नारेबाजी भी की. इसके बाद तत्काल नई मूर्ति मंगा कर इसका अनावरण कराया गया. साथ ही इस क्षेत्र से प्रशासन ने अतिक्रमण भी हटाया. इस मौके पर मीडिया से बात करते हुए पीडब्ल्यूडी मंत्री सज्जन सिंह वर्मा की जुबान फिसल गई और उन्होंने किसानों के लिए केंद्र से राहत राशि नहीं आने के चलते उनके मंत्रियों को नपुंसक तक कह डाला. 

वहीं पंचायत सचिव संगठन के कार्यक्रम में कल देर रात महिलाओं को मंच पर डांस कराने वाला वीडियो वायरल होने के बाद सज्जन सिंह वर्मा ने कहा कि स्वस्थ और सभ्य समाज देने का दायित्व ना सिर्फ नेताओं, कार्यकर्ताओं का है बल्कि सरकारी नौकरी वालों का ज्यादा है. इनका अपराध क्षम्य नहीं है, लेकिन उन्हें नोटिस भेजकर जवाब मांगा जाएगा. मंत्री सज्जन सिंह वर्मा का आरोप है कि सिर्फ उज्जैन ही नहीं बल्कि और भी कई जगहों पर बाबा साहेब की प्रतिमा से छेड़छाड़ के मामले सामने आए हैं. उनका आरोप है कि भाजपा नेता वर्गों में लड़ाई कराना चाहते हैं.

देखें LIVE TV

आजमगढ़ में आंबेडकर की प्रतिमा क्षतिग्रस्त होने पर बवाल, गुस्साए लोगों की आगजनी

प्रदेश के पीडब्ल्यूडी मंत्री सज्जन सिंह का आरोप है कि भाजपा नेता माटी का कर्ज नहीं उतार रहे हैं. उन्होंने कहा कि, मध्य प्रदेश किसानों के बल पर चलने वाला प्रदेश है. भारी वर्षा के चलते कई जगहों पर फसलें  पूरी तरह से नष्ट हो गई हैं, जिससे किसानों को काफी नुकसान हुआ है. हमने केंद्र सरकार से मदद की गुहार लगाई है, लेकिन केंद्र सरकार का कहना है कि हमारे पास और भी प्रदेश हैं. अगर ऐसा है तो मध्य प्रदेश में क्यों राजनीति करते हो. अपने 29 सांसद भी वहीं ले जाओ. वह जहां, पढ़े-लिखे जहां बड़े हए वहां की माटी का कर्ज नहीं उतार पा रहे हैं.