close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

MP: लोगों के अंधविश्वास ने पेड़ को बना दिया 'डॉक्टर', छूने मात्र से दूर हो रही बीमारियां!

पिपरिया में इन दिनों एक ऐसे डॉक्टर की चर्चा हर शख्स की जुबान पर है, जिनके छूने मात्र से ही बीमारी छूमंतर हो जाती है. आश्चर्य की बात तो ये है कि ये डॉक्टर कोई इंसान नहीं बल्कि पेड़ है. 

MP: लोगों के अंधविश्वास ने पेड़ को बना दिया 'डॉक्टर', छूने मात्र से दूर हो रही बीमारियां!

पीताम्बर जोशी/होशंगाबादः क्या आपने कभी सुना है की किसी को छूने मात्र से बीमारियां ठीक हो जाती हैं. सुनने में यह अजीब जरूर लग रहा है पर यह सच है. पिपरिया में इन दिनों एक ऐसे डॉक्टर की चर्चा हर शख्स की जुबान पर है, जिनके छूने मात्र से ही बीमारी छूमंतर हो जाती है. आश्चर्य की बात तो ये है कि ये डॉक्टर कोई इंसान नहीं बल्कि पेड़ है. जिसके पास सैकड़ो की संख्या में मरीज रोजाना पहुंच रहे हैं.

पिपरिया से 15 किलो की दूरी पर स्थित ग्राम नयागांव की सीमा से सटे सतपुड़ा टाइगर रिजर्व (एसटीआर) क्षेत्र की, जहां स्थित एक महुआ के पेड़ के पास इन दिनों हर दिन सुबह शाम हजारों की संख्या में श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ रही है. माना जा रहा है कि इस पेड़ के छूते ही मरीजों को तत्काल बीमारी से निजात मिल जाती है. हालांकि, जी मीडिया इस तरह की खबरों की पुष्टि नहीं करता है.

देखें LIVE TV

देखते ही देखते यह खबर आसपास के क्षेत्र में आग की तरह फैल गई और महज 10 दिनों में अब यह पेड़ धार्मिक आस्था का केंद्र माना जाने लगा है. एक ऐसा स्थान जहां हर बीमारी और परेशानी का इलाज है. यहां पहुंचकर श्रद्धालुओं से का इस विषय पर कहना है कि, इस पेड़ के पास जमीन पर हाथ रखकर बैठने से, अपने आप ही हाथ पेड़ की ओर खिंचने लगते हैं और पेड़ को छूते ही मरीज को हर बीमारी और परेशानी से छुटकारा मिल जाता है. 

चंडी दरबार जहां से नहीं जाता कोई खाली हाथ, सुरंग के जरिये राजा आता था पूजन के लिए

बताया जा रहा है कि नवरात्रि के दिनों में इस स्थान के बारे में नयागांव के ही एक व्यक्ति ने गांव के लोगों को बताया और देखते ही देखते अब यहां हजारों की संख्या में लोग पहुंच रहे हैं. मौके पर जब जाकर देखा तो नजारा चौंकाने वाला था. सतपुड़ा टाइगर रिजर्व के जंगल में जहां लोग जाने में भी डरते हैं, वहां इस पेड़ के आसपास भारी संख्या में लोग मौजूद थे. नारियल प्रसाद की दुकानें लगी हुई थीं, साथ ही पेड़ के इर्द गिर्द लोग जमीन पर हाथ रखकर बैठे हुए थे.