किसान आंदोलन: मध्‍य प्रदेश के 35 जिलों में बांटी गईं 10 हजार लाठियां, 5000 अतिरिक्त जवान तैनात

मध्य प्रदेश में एक जून से होने वाले किसान आंदोलन को लेकर पुलिस पूरी तरह से मुस्तैद है. 

किसान आंदोलन: मध्‍य प्रदेश के 35 जिलों में बांटी गईं 10 हजार लाठियां, 5000 अतिरिक्त जवान तैनात
फाइल फोटो

उज्‍जैन: मध्य प्रदेश में एक जून से होने वाले किसान आंदोलन को लेकर पुलिस पूरी तरह से मुस्तैद है. आंदोलन के दौरान आंदोलनकारियों से निपटने के लिए किसान को लाठी, डंडे, वाहन और अतिरिक्त फोर्स का डिप्लोयमेंट कर दिया गया है. प्रशासन ने 35 जिलों में करीब 10 हजार लाठी-डंडे बंटवाए हैं और 5000 अतिरिक्त जवान तैनात किए हैं. स्थानीय स्तर पर भी पुलिस फोर्स ने मोर्चा संभाल लिया है.

आंदोलनकारियों से निपटने की तैयारी 
पिछले साल के किसान आंदोलन से सबक लेते हुए इस बार आगामी एक जून से होने वाले गांव बंद आंदोलन के लिए पुलिस मुख्यालय ने तैयारी कर ली है. आईजी मकरंद देउस्कर ने बताया कि आंदोलनकारियों से निपटने के लिए पुलिस तैयार है. चिन्हित 35 जिलों में 10 हजार लाठियों के साथ हेलमेट, चेस्टगार्ड आवंटित किए गए हैं. 100 के तकरीबन चार पहिया पुलिस वाहनों को भेजा गया. सबसे ज्यादा वाहन इंदौर, राजगढ़ में 8-8, मुरैना में 7, भोपाल, दतिया में 6-6, शिवपुरी, गुना, सतना में 5-5 गाड़ियां दी गई.

किसान आंदोलन: मंदसौर में 1200 लोगों को प्रतिबंधात्मक नोटिस, साइन कराए 25000 के बांड

1200 लोगों को दिया नोटिस 
बता दें कि मध्य प्रदेश में किसान संगठनों द्वारा प्रस्तावित किसान आंदोलन से निपटने के लिए पुलिस प्रशासन ने करीब 1200 लोगों को प्रतिबंधात्मक नोटिस जारी किए हैं. इसमें मध्यप्रदेश कांग्रेस समन्वय समिति के सदस्य राजेंद्र सिंह गौतम को प्रतिबंधात्मक नोटिस जारी हुआ है. हालांकि उनके घर पर ना मिलने की वजह से उन्हें नोटिस सर्व नहीं हो पाया है. इन नोटिसों के जरिए 25000 रुपये तक के बांड भी भरवाए जा रहे हैं. 

मप्र: किसानों से बांड भरवाने पर बोले कमलनाथ, 'शिवराज सरकार फैला रही अराजकता, बिगाड़ रही माहौल'

हाई अलर्ट पर सरकार 
मध्य प्रदेश में किसान संगठनों द्वारा प्रस्तावित किसान आंदोलन से निपटने के लिए पुलिस प्रशासन ने करीब 1200 लोगों को प्रतिबंधात्मक नोटिस जारी किए हैं. वहीं प्रशासन ने गड़बड़ी से निपटने के लिए नीमच जिले के मनासा के ढाकनी गांव निवासी 80 वर्षीय एक बुजुर्ग किसान को भी नोटिस थमा दिया. आपको बता दें कि किसान संगठनों द्वारा एक से दस जून तक प्रस्तावित किसान आंदोलन को लेकर हाई अलर्ट पर है.