close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

अफसरों पर प्रद्युम्न सिंह का विवादित बयान, '15 सालों में अधिकारियों की चमड़ी मोटी हो गई है'

प्रद्युम्न सिंह तोमर ने अपने बयान में कहा है कि 'कई अफसरों की चमड़ी मोटी हो गई है. जिन अफसरों की चमड़ी मोटी हो गई है, उन्हें कम करने की जरूरत है.'

अफसरों पर प्रद्युम्न सिंह का विवादित बयान, '15 सालों में अधिकारियों की चमड़ी मोटी हो गई है'
प्रद्युम्न सिंह तोमर (फोटो साभारः Twitter)

भोपालः मध्य प्रदेश कांग्रेस में इन दिनों मंत्रियों और नेताओं की बयानबाजी हर तरफ चर्चा का विषय बनी हुई है. हाल ही में जीतू पटवारी और दिग्विजय सिंह की पटवारियों पर बयानबाजी पर पटवारियों ने हंगामा खड़ा कर दिया था. ऐसे में अब कैबिनेट मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर ने भी अफसरों को नाराज कर देने वाला बयान दिया है. मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर ने अपने बयान में कहा है कि 'कई अफसरों की चमड़ी मोटी हो गई है. जिन अफसरों की चमड़ी मोटी हो गई है, उन्हें कम करने की जरूरत है.'

आशंका जताई जा रही है कि प्रद्युम्न सिंह तोमर के बयान पर एक बार फिर विवाद हो सकता है. उनके बयान को लेकर एक बार फिर अफसरों की नाराजगी सामने आ सकती है. मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर ने अब अफसरों को कहा है कि उनकी चमड़ी मोटी हो गई है. प्रद्युम्न सिंह तोमर ने कहा कि जिन अफसरों की चमड़ी मोटी हो गई है उसे कम करने में वक्त लगेगा. दरअसल, कांग्रेस विधायक मुन्नालाल गोयल ने सीएम कमलनाथ से शिकायत की थी.

देखें LIVE TV

उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने जो वादे जनता से किए थे वो कुछ अफसरों के कारण पूरे नहीं हो रहे हैं. वहीं प्रद्युम्न सिंह तोमर ने मुन्नालाल गोयल की शिकायत पर कहा कि व्यक्तिगत तौर पर इस मामले में चर्चा करेंगे. दरअसल, प्रधुम्न सिंह तोमर से पूछा गया था कि उनके ही पार्टी के विधायक मुन्नालाल गोयल ने मुख्यमंत्री से मिलकर शिकायत की है कि चुनाव के दौरान जनता को कांग्रेस ने जो वचन दिए थे, उन्हें प्रशासनिक अफसर पूरा नहीं होने दे रहे हैं. इस पर मंत्री जी ने कहा कि, 'जनता ने जिस भरोसे के साथ हमे चुना है तो हमारी नैतिक जिम्मेदारी है, कि हम उन अपेक्षाओं के अनुरूप विकास कार्य को अंजाम दें.'

'मैग्निफिसेंट MP' से बनेगा 'शानदार मध्य प्रदेश', सरकार के पास आए 88 हजार करोड़ के निवेश प्रस्ताव

बता दें कि, मुन्नालाल गोयल ने मुख्यमंत्री से अफसरों की शिकायत करते हुए कहा कि प्रशासन मे बैठे अफसर सरकार के वचन पत्र और क्षेत्र के विकास कार्यों को पूरा करने में सहयोग देने की बजाए अवरोध पैदा कर रहे हैं. इसे बर्दाश्त नहीं किया जाना चाहिए.