मध्य प्रदेशः ट्रेनिंग करने आए शिक्षकों को नहीं मिला खाना, किया जमकर हंगामा

मध्य प्रदेश के खंडवा में ट्रेनिंग के लिए आए शिक्षकों को समय पर भोजन नहीं मिलने पर वह भड़क गए और व्यवस्थाकों के खिलाफ जमकर नारेबाजी की.

मध्य प्रदेशः ट्रेनिंग करने आए शिक्षकों को नहीं मिला खाना, किया जमकर हंगामा

खंडवाः मध्य प्रदेश के खंडवा में ट्रेनिंग के लिए आए शिक्षकों को समय पर भोजन नहीं मिलने पर वह भड़क गए और व्यवस्थाकों के खिलाफ जमकर नारेबाजी की. शिक्षकों का कहना था कि  वह बड़ी दूर-दूर से जिला मुख्यालय पर ट्रेनिंग करने आए थे. जब खाने का समय हुआ तो पर्याप्त खाना ही नहीं मिल पाया. जो खाना बना था वह आधे शिक्षकों ने खाया और बाकि के आधे शिक्षक खाने का इंतजार ही करते रहे . खाना पकाने  वाले का कहना था कि उसे जितने शिक्षकों का ऑर्डर दिया था उतना बनाया, ज्यादा शिक्षक आ गए तो इसमें उसका कोई दोष नहीं. वहीं व्यवस्थापक अब खाना बनाने वाले ठेकेदार पर कार्रवाई करने की बात कर रहे हैं.

खंडवा में शिक्षकों की विषयवार ट्रैनिंग आयोजित की गई थी. उत्कृष्ट विद्यालय , महारानी लक्ष्मीबाई और नेहरू स्कूल में अलग अलग विषयों  की ट्रेनिंग दी जा रही थी. जब लंच का समय हुआ तो खाना बनाने वाले 150 लोगों का खाना ले कर आए. 450 शिक्षकों में से 150  शिक्षकों ने भोजन किया बाकी मुंह देखते भोजन का इन्तजार करते रहे. भोजन नहीं आने पर ट्रेनिंग सेंटर से बाहर आकर शिक्षकों  ने नारेबाजी की और ट्रेनिंग का बहिष्कार किया . 

देखें LIVE TV

ट्रेनिंग में आए शिक्षकों के भोजन काम गुजराती भोजनालय को दिया गया था . भोजनालय वाले ने बताया को हमे 300 शिक्षकों की संख्या बताई गई थी. हमने उनके लिए भोजन बनवाया था. यहां आने पर पता चला की 450 शिक्षकों यहां आए हैं.  इतनी जल्द भोजन नहीं बन सकता था तो हमने शिक्षकों से 1 घण्टे का समय मांगा . भोजन पकाने वाले ने यह भी माना कि 3 सेंटरों में से एक सेंटर पर यह समस्या निर्मित हुई . अधिकारी अगर सही संख्या बता देते तो सभी को भोजन मिल जाता .

MP: बीजेपी को झटका, MLA प्रह्लाद लोधी की पवई सीट से सदस्यता खत्म, अब होगा उपचुनाव

शिक्षकों की ट्रेंनिंग की  व्यवस्था देख रहे अधिकारी की मानें तो खंडवा में आज शिक्षकों की विषयवार ट्रैनिंग आयोजित की गई  थी.  कुल 410 शिक्षक ट्रेनिंग में आये थे. जिनको देखते हुए कैटरर्स को 450 शिक्षकों के भोजन का ऑर्डर किया गया था, पर वह कम लोगों का भोजन लाया, जिससे कुछ शिक्षकों को भोजन नहीं मिल पाया. अधिकारी अब कैटरर्स  पर नियमानुसार कार्रवाई की बात कर रहे हैं.