close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

मध्य प्रदेशः दमोह में पानी के लिए शुरू हुई जंग, जल स्रोतों पर लगा पुलिस का पहरा

भीषण पेयजल संकट के दौर से गुजर रहे दमोह जिले के कई इलाकों में पानी की तलाश में भटकते लोगों के लिए दिन और रात एक जैसे है, हलक की प्यास बुझाने पानी का इंतज़ाम लोगों के लिए सारे कामों से ज्यादा जरुरी है और पानी केलिए लोग कुछ भी करने को तैयार है. 

मध्य प्रदेशः दमोह में पानी के लिए शुरू हुई जंग, जल स्रोतों पर लगा पुलिस का पहरा
हेण्डपम्प का पानी खत्म ना हो जाए इसके लिए मंदिर के पुजारी ने इस पर कब्जा जमा रखा है. (फाइल फोटो)

(महेंद्र दुबे)/दमोहः मध्य प्रदेश के दमोह जिले में पीने के पानी के लिए अब जंग शुरू हो गई है. लोग मरने मारने को तैयार है और आलम ये है की धार्मिक क्षेत्रों में बने जलस्रोतों पर ना सिर्फ पहरेदारी हो रही है, बल्कि पानी की हिफाजत के साथ उसके उपयोग से रोकने के लिए लोग लड़ रहे हैं और आलम ये है की पानी के लिए पुलिस थानों में शिकायतें भी दर्ज हो रही हैं. भीषण पेयजल संकट के दौर से गुजर रहे दमोह जिले के कई इलाकों में पानी की तलाश में भटकते लोगों के लिए दिन और रात एक जैसे है, हलक की प्यास बुझाने पानी का इंतजाम लोगों के लिए सारे कामों से ज्यादा जरुरी है और पानी केलिए लोग कुछ भी करने को तैयार है. 

हालात इस कदर बिगड़ चुके है की जिस जगह जरा से पानी का इंतजाम है वहां लोग चौकसी करके पानी को लोगों को भरने से रोकने लगे हैं और अगर लोगों ने जबरदस्ती की तो लड़ने पर भी लोग आमादा हैं. जिले के हटा थाने के मानपुर में कुछ ऐसा ही हुआ और पानी के लिए हुए विवाद के बाद मामला पुलिस थाने पहुंचा है. दरअसल, मानपुर में भीषण पानी का संकट है. इलाके के तमाम जलस्त्रोत सूख गए है. सरकार ने याहं चार हेण्डपम्प लगाए हैं, लेकिन सब में पान नहीं है. गावं के मंदिर में एक हेण्डपम्प चालू है लोग यहां पानी के लिए जाते हैं, लेकिन यहां उनके साथ अजीबो-गरीब हालात बनते हैं. हेण्डपम्प का पानी खत्म ना हो जाए इसके लिए मंदिर के पुजारी ने इस पर कब्जा जमा रखा  है. 

देखें लाइव टीवी

राजस्थान सरकार का बड़ा ऐलान, जनता को दी पानी के बिल से राहत

लोगों के मुताबिक पुजारी पानी भरने जाने पर बदतमीजी पर आमादा हो जाते हैं और मारपीट तक करने लगते है. मामला यहीं तक नहीं रह जाता बल्कि पानी के लिए इस इलाके में जंग तक हो गई है. पुजारी और गावं वालों में जमकर विवाद हुआ हाथापाई हुई और लोगों ने महज पानी के लिए खून तक बहाया. एक पक्ष ने पुलिस में पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज कराई तो दूसरा पक्ष जब पुलिस थाने पहुंचा तो उसकी शिकायत दर्ज करने के बजाये हटा पुलिस ने फरियादियों को ही बैठा लिया. फिर क्या था पुलिस थाने में हंगामा शुरू हुआ और पुलिस ने मामले को शानत कर लिया.

समय रहते नहीं चेते तो हिमालय में पानी हो जाएगा खत्म, वैज्ञानिकों का दावा

पानी को कब्जे में लेने वाले पुजारी की अपनी दलील है. पुजारी की मानें तो पूरे इलाके में भीषण सूखा है और मंदिर के जिस हेण्डपम्प पर लोग पानी भरने आते हैं वो उन्हें मना नहीं करते बल्कि जब लोग पानी का दुरूपयोग करते हैं तब वो मना करते हैं और लोग उनके इस बात से मना करने पर लड़ने तैयार हो जाते हैं. पीने के पानी के लिए मची इस जंग ने पुलिस को भी अचरज में डाल दिया है. तो बुनियादी सुविधा और जरुरत के लिए लड़ते लोगों के बीच झगड़ा एक बड़ी चुनौती भी है. पुलिस अफसरों के मुताबिक गावं के हेण्डपम्प को कब्जे में करने की बात सामने आई है. जिस पर पुलिस सक्रिय हुई है और हेण्डपम्प को मुक्त कराया जाएगा. वहीं हालातों पर भी पुलिस की कड़ी नजर बनी हुई है.